भाभी के 'भौजी साड़ी' पहनने से भागेगा कोरोना, ननद कर रही जेब खाली, अफवाह ने पकड़ा जोर, जानें पूरा मामला

|

Updated: 20 Sep 2020, 03:35 PM IST

वैक्सीन बनाने का काम तो कई देशों में चल रहा है, इसी बीच (Bhauji Saree's Rumors Trending In Jharkhand To Kill Coronavirus) (Jharkhand News) (Giridih News) (Bhauji Saree)...

(गिरिडीह): पूरी दुनिया कोरोना वायरस की महामारी से त्रस्त है। हर कोई इससे जल्द छुटकारा चाहता है और फिर अपनी सामान्य जिंदगी जीना चाहता है। वैक्सीन बनाने का काम तो कई देशों में चल रहा है। इसी बीच अंधविश्वास से भरी बातें भी रफ्तार पकड़ लेती है। इसी तरह झारखंड के कई इलाकों में कोरोना से मुक्ति पाने के लिए भौजी साड़ी का चलन चल पड़ा है।

यह भी पढ़ें: ऑरेकल-वॉलमार्ट के प्रपोजल से अमरीका में TikTok को मिला 7 दिन का जीवनदान, जानिए क्या है पूरा मामला

जी हां, झारखंड के कई जिलों के ग्रामीण इलाकों में ''भौजी साड़ी'' की खूब डिमांड बढ़ गई है। दरअसल यहां यह बात प्रचलित हो गई है कि ननद अपनी भाभी को साड़ी खरीद कर दें। इसके बाद भाभी वह भौजी साड़ी पहन कर पूजा अर्चना करें। इससे परिवार पर किसी तरह का दुख नहीं आएगा। कोरोना से निजात पाने के लिए भी यह उपाय करने की सलाह महिलाओं को दी जा रही है।

यह भी पढ़ें: Weather Forecast: इस बार सितंबर में टूट सकता है गर्मी का रिकॉर्ड, बारिश की उम्मीद कम

ऐसे में ग्रामीण इलाकों में ननद अपनी भाभी को यह साड़ी उपहार स्वरूप भेंट कर रही हैं। हालत यह है कि यदि किसी के पास पैसे नहीं है तो वह उधार तक करके इसे निभा रहा है। इन सभी आधारहीन बातों के बीच साड़ी व्यापारी चांदी कूट रहे हैं।

यह भी पढ़ें: भारत के लिए Al-Qaeda और ISIS बड़ा खतरा, अब बांग्लादेश के जरिए कराई जा रही है घुसपैठ

यह सभी बातें प्रशासनिक अधिकारियों तक पहुंची तो वह भी दंग रह गए। उनका कहना है कि यह अफवाह है। लोगों को जागरूक करेंगे। गौरतलब है कि इससे पहले भी बिहार व झारखंड के इलाकों में कोरोना माई की पूजा चल पड़ी थी। यह कहा जा रहा था कि यह पूजा करने से कोरोना से मुक्ति मिलेगी।

ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...