Latest News in Hindi

UP के इस जिले में तीन दिन में इतने लोगों ने छोड़ा हिन्दू धर्म, अपनाया ये मजहब!, मचा हड़कम्प

|

Nov, 13 2018 11:01:01 (IST)

तीन दिन में 30 लोगों का हुआ धर्म परिवर्तन, स्थानीय लोगों का दावा, प्रशासन में भी खबर से हड़कम्प।

UP के इस जिले में तीन दिन में इतने लोगों ने छोड़ा हिन्दू धर्म, अपनाया ये मजहब!, मचा हड़कम्प

गाजीपुर. धर्म परिवर्तन को लेकर देश में लगातार विवाद होता रहा है। हिन्दू संगठन इसके खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं और कई मामलों में आक्रामक भी हुए हैं। यूपी के पूर्वांचल में पिछले कुछ महीनों से धर्म परिवर्तन को लेकर कई जिलों में विवाद हो चुके हैं। अब ताजा मामला गाजीपुर जिले में सामने आया है। यहां 30 परिवारों के हिन्दू धर्म छोड़कर दूसरा मजहब अपना लेने का दावा किया गया है। सभी ने अपने घरों में नए धर्म के अनुसार धार्मिक क्रियाकलाप भी शुरू कर दिया। ये लोग एक निश्चित समय पर धर्म स्थल में जाते और वहां उस मजहब के मुताबिक प्रार्थना करते। अब मामला सामने आ जाने के बाद जहां जिला प्रशासन इसकी जांच में जुटा है वहीं हिन्दू युवा वाहिनी इसे लेकर गुस्से का इजहार कर रही है।

 

मामला गाजीपुर के खानपुर थानाक्षेत्र के जल्दीपुर, नेवादा व बिझवल गांवों का है। खबर आयी कि यहां करीब 30 परिवारों ने हिन्दू धर्म छोड़कर ईसाई मजहब अपना लिया है। इसके बाद तो खलबली मच गयी। पूर्वांचल के कई जिलों में पहले से ही इसे लेकर हंगामा हो चुका है। गाजीपुर में भी हिन्दू संगठन खासतौर से हिन्दू युवा वाहिनी इस खबर के बाद आक्रोशित नजर आयी। ऐसा दावा किया गया है कि काफी दिनों से चल रही फुलप्रूफ तैयारी के बाद पिछले तीन दिनों में 30 लोगों का धर्म परिवर्तन कराया गया है। इसके चलते स्थानीय लोगों और प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं लग सकी। गांव में कई लोगों के घरों में क्रॉस मिले और दीवारों पर भी होली क्रॉस बनाया गया था। कुछ कमरों में ईसा मसीह की फोटो भी रखी थी, जिसकी पूजा की जाती थी। गांव के कई लोगों ने मीडिया के सामने ही घरों में लगे क्रॉस को तोड़ दिया।

 

 

इन खबरों के बीच मीडिया जब गांव में पहुंचा तो वहां का नजारा बदला हुआ था। गांव पहुंचने पर काफी तादाद में पुरुष वहां से कहीं चले गए थे। कुछ महिलाएं और बच्चे थे। उनसे पूछने पर पता चला कि उनके घरों में ईसा मसीह की पूजा होती है और माता-पिता प्रार्थना सभा के लिये जाते हैं। वो लोग अकेले नहीं जाते, बल्कि गांव के दर्जनों लोग उस प्रार्थना सभा में शामिल होने के लिये जाते हैं। वहीं कई का दावा था कि उनके परिवार के कई बीमार लोग ईलाज व प्रार्थना के लिये वहां जाते थे पर अब ऐसा नहीं करते।

 

गांव के लोगों के मुताबिक ये लोग पहले जौनपुर के चंदवक अन्तर्गत भुल्लनपुर में प्रार्थना सभा में शामिल होते थे। दूरी ज्यादा होने के चलते महिलाएं वहां नहीं जा पाती थीं। इसके बाद वहां हंगामा हुआ और शासन-प्रशासन ने प्रार्थना बंद करा दी1 इसके बाद ईसाई धर्म प्रचारकों से बात कर फादर फोस्टर के नेतृत्व में अपने गांव में ही लोगों ने प्रार्थना सभा शुरू कर दी। हर रविवार को प्रार्थना सभाओं में भीड़ जुटने लगी। गांव के लोगों ने आरोप लगाया है कि तीन गांवों में अनुसूचित जाति, पाल, राजभर, यादव मुसहर और दो क्षत्रिय परिवारों को ईसाई धर्म प्रचारकों ने पैसे का लालच देकर धर्म परिवर्तन करा दिया है।

 

मामला सामने आने के बाद एलआईयू इंस्पेक्टर मौके पर पहुंचकर पूरी जानकारी जुटा रहे हैं। उधर जिलाधिकारी के बालाजी ने भी मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच कर कार्रवाई करने कीबात की हे। उन्होंने यह भी माना कि पिछले दिनों जोनपुर में जिस तरह से धर्म परिवर्तन का खेल हुआ, यह मामला भी उसी से जुड़ा लगता है।

By Alok Tripathi