Bihar Election: NDA के कुनबे में तकरार शुरू, LJP ने 42 सीटों पर ठोका दावा, BJP-JDU ने यूं दिया जवाब

|

Updated: 24 Aug 2020, 10:59 PM IST

जदयू भाजपा ने अपनी प्रतिक्रया देते हुए कहा कि (LJP Claimed On 40 Seats In Bihar Assembly Election) (Bihar News) (Gaya News) (Patna News) (NDA Seat Sharing In Bihar Election)...

 

प्रियरंजन भारती

गया/पटना: विधानसभा चुनाव के लिए गठबंधनों में सीटों के लिए मारामारी शुरु हो गई है। महागठबंधन के प्रमुख दल आरजेडी के दावे के बाद अब एनडीए में लोजपा की ओर से 42 सीटों की दावेदारी पेश कर दी गई। इस पर जदयू भाजपा ने अपनी प्रतिक्रया देते हुए समय आने पर फैसला होने की बात कही।

यह भी पढ़ें: Sushant Singh Rajput Suicide Case में फारेंसिक रिपोर्ट आई सामने, गले में लगे निशान की सच्चाई आई सामने

लोजपा ने कहा, इससे कम पर बात नहीं

लोजपा प्रवक्ता संजय सिंह ने 42 सीटों पर पार्टी के दावे पेश करते हुए कहा कि इससे कम पर कोई बात नहीं होगी। उन्होंने कहा कि भाजपाध्यक्ष जेपी नड्डा ने साफतौर पर कहा दिया है कि 2015 के सीट बंटवारे के आधार पर सीट शेयरिंग होगी। इस आधार पर भाजपा को 105, लोजपा को 42 और जदयू को 96 सीटें ही मिलनी चाहिए। हालांकि 2015 के विधानसभा चुनाव में जदयू महागठबंधन का हिस्सा था। उसे इतनी ही सीटें दी गई थीं। लोजपा नेता ने कहा कि लोकसभा चुनाव में भाजपा और लोजपा का स्ट्राइक रेट शत प्रतिशत रहा। लेकिन जदयू एक सीट हार गया था।

यह भी पढ़ें: Pathan बोले, टूट सकता है Tendulkar के 100 शतकों का रिकॉर्ड, इस भारतीय बल्लेबाज पर लगाया दांव

भाजपा जदयू ने कहा,समय आने पर होगा फैसला

भाजपा प्रवक्ता संजय टाइगर ने कहा कि अभी बुक शेयरिंग की बात नहीं शुरु हुई है। सभी घटक दलों के बीच समय से सीट बंटवारा होगा। कौन कहां से कितनी सीटों पर लड़ेगा ये तीनों दलों के नेता मिल-बैठकर तय कर लेंगे। टाइगर ने कहा कि एनडीए की सीट यानी तय जीत। सभी को यह मालूम भी है कि गठबंधन में हेर-फेर नहीं हो सकता। जदयू नेता अशोक चौधरी ने कहा कि लोजपा को अपनी बात रखने का अधिकार है। समय आने पर सभी बातें तय हो जाएंगी।

यह भी पढ़ें: Maharashtra के Raigad में 5 मंजिला इमारत धराशाई , 200 लोगों के दबे होने की आशंका

चिराग पासवान रहे नीतीश सरकार पर हमलावर

चिराग पासवान नीतीश सरकार के कामकाज पर लंबे समय से हमलावर बने रहे हैं। हालांकि उन्होंने यह कहते हुए सफाई भी दी कि हम जनता की बातों को सरकार के सामने रखते आ रहे हैं। लेकिन जदयू उनके व्यवहार से खिन्न होता गया। यह संदेश भी प्रचारित किया गया कि लोजपा अध्यक्ष विपक्ष की भाषा बोल रहे हैं। इन सब के बीच भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति की वर्चुअल बैठक के दरमियान भाजपाध्यक्ष जेपी नड्डा ने यह कहकर कलह पर विराम लगा दिया कि भाजपा,जदयू और लोजपा जब भी साथ रही एनडीए ने शानदार जीत हासिल की है। इससे यह तय हो गया कि जदयू चाहकर भी लोजपा को एनडीए से रुखसत नहीं कर सकता। हालांकि जीतनराम मांझी को नजदीक लाकर नीतीश कुमार ने पासवान परिवार को किनारे लगाने की योजना पर पहले ही से अमल शुरु कर रखा है।

ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...