सुहागनगरी में पंप आॅपरेटर के नाम पर लाखों का घोटाला, महापौर ने मांगी रिपोर्ट

|

Published: 15 Sep 2020, 06:12 PM IST

— नगर निगम फिरोजाबाद में काम करने वाले पंप आॅपरेटर के नाम पर किया गया घोटाला।

फिरोजाबाद। सुहागनगरी में नगर निगम के अंदर पंप आॅपरेटर के नाम पर लाखों का घोटाला सामने आया है। महापौर नूतन राठौर ने इस पूरे प्रकरण को लेकर रिपोर्ट मांगी है। साथ ही पूरी लिस्ट भी मांगी है कि किस—किस व्यक्ति को पंप आॅपरेटर के नाम पर पैसा दिया जा रहा था। महापौर के संज्ञान में मामला आने क बाद खलबली मची हुई है।

महापौर ने किया खुलासा
फिरोजाबाद नगर निगम में एक बड़े पम्प ऑपरेटर घोटाले का खुलासा हुआ है। इस घोटाले का खुलासा नगर निगम की मेयर नूतन राठौर के निरीक्षण के दौरान हुआ। खुलासे में सामने आया कि नगर निगम का ठेकेदार हर माह नगर निगम को 31 लाख रुपये का चूना लगा रहा था। दरअसल, नगर निगम हर माह 67 लाख रुपये पम्प ऑपरेटर को मानदेय के भुगतान के लिए देता है, लेकिन मेयर के मुताबिक केवल 36 लाख रुपये ही बांटा जाता है। मेयर के पास ऐसे 27 पम्प ऑपरेटरों की सूची भी है जो दो-दो जगहों से मानदेय ले रहे थे। खुलासा होने के बाद अब नगर निगम इस ठेकेदार के खिलाफ अब कड़ी कार्रवाई करने जा रहा है।

निरीक्षण करने पहुंची थीं महापौर
महापौर नूतन राठौर ने बताया कि वह निरीक्षण करने पहुंची थीं। उन्होंने कुछ नलकूपों का निरीक्षण किया था। निरीक्षण में जानकारी हुई कि कुछ आॅपरेटर बिना काम किए ही नगर निगम से पैसा ले रहे हैं। उन्होंने ठेकेदासर को तलब कर सभी दस्तावेज मांगे हैं लेकिन ठेकेदार नेउन्हें दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराए। टेंडर को मैनेज कर ठेका एक अन्य व्यक्ति को दे दिया गया। उन्होंने बताया कि जब उन्होंने अपने स्तर से जांच कराई तो पता चला कि 27 आॅपरेटर ऐसे हें जिनकी भूमिका संदिग्ध है। ठेकेदार को नगर निगम से हर माह पम्प ऑपरेटरों के भुगतान के लिए 67 लाख रुपया दिया जाता है, लेकिन ठेकेदार ऑपरेटरों के बीच केवल 36 लाख रुपया ही बंटता है जो एक बड़ा भ्रष्टाचार है।