पड़ोसी ने किराएदार को सुपारी देकर कराई थी भाजपा नेता की हत्या, पुलिस ने किया खुलासा

|

Published: 25 Oct 2020, 06:36 PM IST

— चार लाख और 50 वर्ग गज जमीन में दी गई थी भाजपा नेता की हत्या की सुपारी, पुलिस ने सात लोगों को किया गिरफ्तार।

फिरोजाबाद। टूंडला विधानसभा में होने वाले उपचुनाव से पहले नारखी क्षेत्र के नगला बीच में भाजपा नेता की गोली मारकर की गई हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया। पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार किया है जबकि एक आरोपी फरार है। पकड़े गए आरोपियों के पास से पुलिस ने इनके पास से तमंचा, कारतूस और बाइक भी बरामद की है।

दुकान बंद करते समय मारी थी गोली
थाना नारखी क्षेत्र के नगला बीच निवासी दयाशंकर उर्फ डीके गुप्ता की 16 अक्टूबर को बाइक सवार बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। उसके बाद हमलावर फरार हो गए थे। घटना को लेकर परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने फेसबुक पर धमकी देने वाले बीरेश तोमर, उनके चाचा नरेन्द्र तोमर और देवेन्द्र तोमर के विरुद्ध मुकदमा दर्जकर जेल भेज दिया था। उसके बाद पुलिस शूटरों की तलाश में जुट गई थी।

पकड़े गए आरोपी
एसएसपी सचिन्द्र पटेल ने जानकारी देते हुए बताया कि एसओजी टीम के साथ ही नारखी पुलिस ने पचोखरा की ओर से आने वाली दो बाइकों को आलमपुर पुलिस के समीप चेकिंग के लिए रोका। जहां उनसे पूछताछ करने पर दो बाइक पर सवार चार लोग हड़बड़ा गए। उन्होंने दयाशंकर की हत्या की बात कबूल कर ली। पकड़े गए लोगों ने अपने नाम ईश्वर देव गुप्ता, फूल किशोर उर्फ फूले पुत्रगण सुरेश चंद्र गुप्ता निवासी नगला बीच थाना नारखी फिरोजाबाद बताया। पूछताछ में बताया कि हत्या कराने का कारण जमीनी विवाद व आपसी मतभेद था। हत्या कराने में तय की गयी सुपारी की रकम 4 लाख रुपये व 50 गज का एक प्लाट तय किया गया था, जिसमें 60 हजार रुपये घटना से पहले बतौर एडवान्स दे दिए थे। एडवांस ली गई रकम को उन्होंने आपस में खर्च कर लिया था। शेष धनराशि को मामला शांत होने के बाद ईश्वर देव द्वारा दिए जाने की बात कही गई थी।

पूछताछ में और हुए खुलासे
आरोपी अनिल पण्डित उर्फ गौतम व उसके साथियों से हुई पूछताछ में कई सुराग हाथ लगे। सुपारी देने वाले व्यक्ति ईश्वर देव गुप्ता व उसके भाई फूले व उसके एक साथी जीतू पहलवान उर्फ जितेन्द्र को गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ में उन्होंने दयाशंकर गुप्ता की हत्या की योजना जीतू उर्फ जितेन्द्र पहलवान की मौजूदगी में जीतू की ही सबमर्सिबल पर करने की साजिश रची थी।

अवैध कब्जे में बाधक बनने पर भाजपा नेता की हत्या
पुलिस के मुताबिक सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे में बाधक बनने पर भाजपा नेता की हत्या की गई थी। इसमें पुलिस ने अनिल पण्डित उर्फ गौतम पुत्र खजान सिहं जाटव निवासी मेङू थाना हाथरस जंक्शन, जयकेश उर्फ जैकी पुत्र सन्तोष यादव निवासी जेवङा तिराहा थाना मक्खनपुर, शिशुपाल उर्फ गब्बर पुत्र राजपाल ठाकुर निवासी ग्राम मरसैना थाना पचोखरा, बली मौहम्मद पुत्र नसरुद्दीन निवासी रतीगढी थाना नारखी, ईश्वरदेव गुप्ता पुत्र सुरेशचन्द्र गुप्ता और फूलकिशोर उर्फ फूले पुत्र सुरेशचन्द्र गुप्ता निवासीगण नगला बीच थाना नारखी के अलावा जीतू उर्फ जितेन्द्र पुत्र रामपाल सिहं जादौन निवासी नगला सिकन्दर थाना नारखी को गिरफ्तार कर लिया जबकि इनका एक साथी दुर्वेश पुत्र चंद्रपाल सिंह यादव निवासी नगला नरैनी थाना सिरसागंज फिरोजाबाद अभी फरार है। पकड़े गए आरोपियों के पास से पुलिस ने तीन तमंचा, चार कातूस, दो मोटरसाइकिल बरामद की हैं।

यह भेजे गए थे जेल
हत्या के बाद पुलिस ने इस मामले में घटना से दो दिन पहले फेसबुक पर धमकी देने वाले स्कूल संचालक बीरेश तोमर, उनके चाचा नरेन्द्र तोमर, देवेन्द्र तोमर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इस मामले में एसएसपी ने बताया कि फौरी कार्रवाई में तीन लोगों को जेल भेजा गया था। जब इस मामले की जांच की गई तो पकड़े गए आरोपियों द्वारा हत्या करने की बात सामने आई।