Shrawan Somvar: सावन का दूसरा सोमवार 2 अगस्त को, जानें भगवान शिव के किस रूप की करें पूजा

|

Published: 01 Aug 2021, 12:41 PM IST

Second Sawan Somvar: भगवान शिव की पूजा करके उनके दिव्य आशीर्वाद की प्राप्ति

sawan second somvar 2021- सावन के दूसरे सोमवार पर क्या करें खास

Sawan 2021: हिंदू कैलेंडर में सावन या श्रावण पांचवां महीना है। भगवान शिव के इस मास सावन में ही जन्माष्टमी, तीज और रक्षा बंधन जैसे विभिन्न हिंदू त्यौहार मनाए जाते हैं। इसके अलावा प्राचीन हिंदू शास्त्रों के अनुसार, सावन का महीना हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में से एक, भगवान शिव की पूजा से संबंधित है।

सावन के महीने में सोमवार का अत्यंत खास महत्व माना जाता है। ऐसे में जहां सावन का पहला सोमवार, 26 जुलाई, 2021 को मनाया जा चुका है। वहीं अब 2 अगस्त को सावन 2021 का दूसरा सोमवार पड़ने जा रहा है।

सावन सोमवार के दिन जहां हिंदू भक्त पूरे दिन उपवास रखते हैं वहीं सावन के पूरे महीने में शिव भक्ति के साथ ही प्रत्येक सोमवार को भगवान शिव की पूजा करके उनके दिव्य आशीर्वाद की प्राप्ति की कामना करते हैं। हिंदू धर्म में, श्रावण का पूरा महीना भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा के लिए समर्पित है।

Read More- सावन 2021 का पहला प्रदोष, कब और जानें इस बार क्या करें खास?

यूं तो साल का हर सोमवार भगवान शिव की पूजा के लिए खास माना जाता है, लेकिन श्रावण के सभी सोमवार उपवास के लिए अत्यधिक शुभ व विशेष माने जाते हैं। कई भक्त सावन महीने के पहले सोमवार से सोलह सोमवार या सोलह सोमवार उपवास रखते हैं।

वहीं इस महीने के सभी मंगलवार भगवान शिव की पत्नी देवी पार्वती को समर्पित हैं। ऐसे में श्रावण मास के सभी मंगलवार को महिलाएं उपवास रख देवी पार्वती की पूजा करती हैं। इस व्रत को मंगल गौरी व्रत के नाम से जाना जाता है।


Read more- Sawan Somvar: शिव पूजा यदि सुबह नहीं कर सके हैं, तो ये हैं शाम के उपाय

श्रावण के दूसरे सोमवार पर महाकालेश्वर की करें पूजा:
श्रावण 2021 के पहले सोमवार के बाद अब 2 अगस्त का श्रावण का दूसरा सोमवार पड़ने जा रहा है। ऐसे में इस दिन भगवान शिव के महाकालेश्वर रूप की पूजा विशेष महत्व माना गया है।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार दूसरे सोमवार को महाकालेश्वर शिव की विशेष पूजा करने का विधान है। मान्यता के अनुसार इस दिन श्रद्धालु को ‘ऊं महाशिवाय वरदाय हीं ऐं काम्य सिद्धि रुद्राय नम: मंत्र का रुद्राक्ष की माला से कम से कम 11 मामला जाप करना चाहिए।

माना जाता है कि महाकालेश्वर की पूजा से सुखी गृहस्थ जीवन मिलता है। वहीं महाकालेश्वर अपने आशीर्वाद से पारिवारिक कलह, पितृ दोष सहित तांत्रिक दोष से मुक्ति प्रदान करते हैं।


Read more- Sawan 2021 Starts: सावन में शिव पूजा के दौरान इन चीजों दूर रहें

पंडित एके शुक्ला के अनुसार श्रावण मास के संबंध में माना जाता है कि इस महीने में पूरे मन से भगवान शिव की पूजा करने से लोगों को सुख, सफलता और समृद्धि मिलती है।

ऐसे में सावन के महीने में पड़ने वाले सभी सोमवार यानि श्रावण सोमवार के दिन व्रत के लिए कहा जाता है। वहीं कई भक्त सावन महीने के पहले सोमवार से शुरु कर सोलह सोमवार तक लगातार उपवास रखते हैं।

सावन 2021: प्रारंभ की तिथि और समाप्ति तिथि
सावन मास साल 2021 में 25 जुलाई 2021, रविवार से प्रारंभ होकर 22 अगस्त 2021, रविवार तक रहेगा।

श्रावण प्रारंभ: 25 जुलाई 2021, रविवार

प्रथम श्रावण सोमवार व्रत: 26 जुलाई 2021द, सोमवार

द्वितीय यानि दूसरा श्रावण सोमवार व्रत: 2 अगस्त 2021

तृतीय यायिन तीसरा श्रावण सोमवार व्रत: 9 अगस्त 2021

चतुर्थ यानि चौथा श्रावण सोमवार व्रत: 16 अगस्त 2021

श्रावण माह समाप्त: 22 अगस्त 2021, रविवार

Read more- 2021 में अगस्त के पहले ही सप्ताह के दो दिन भगवान शिव की पूजा के लिए अति विशेष

श्रावण माह की ये तिथियां कई प्रदेश में अलग अलग चलती है, जिसका मुख्य कारण किसी जगह पर सूर्य कैलेंडर तो कहीं पर चंद्र कैलेंडर की मान्यता के कारण है।

सावन सोमवार 2021: पूजा विधि
पूरे महीने के दौरान, प्रत्येक सोमवार को, भक्त जल्दी उठते हैं और स्नान करने के बाद मंदिर जाते हैं। वहीं कोरोनावायरस महामारी के बीच भक्तों को अपने घर में पूजा करते हुए शिवलिंग पर पानी, दूध, फूल, बेल पत्र चढ़ाने चाहिए, आरती कर सकते हैं और व्रत कथा का पाठ कर सकते हैं।

पहली पूजा सुबह जल्दी करनी चाहिए, जबकि दूसरी पूजा सूर्यास्त के बाद करनी चाहिए। श्रावण महीने में सभी मंगलवार देवी पार्वती को समर्पित होते हैं - इस दिन भक्त माता मंगला गौरी को प्रसन्न करने के लिए उपवास भी रखते हैं।