शारदीय नवरात्र के छठे दिन से शुरु होती है दुर्गा पूजा, जानें दुर्गा पूजा के दौरान देवी मां के रूप व पूजन विधि

|

Updated: 20 Oct 2020, 09:58 PM IST

दुर्गा पूजा का पर्व 22 अक्टूबर से 26 अक्टूबर तक...

Are shardiya navratri and Durga puja sameक्या आप भी सोचते हैं कि दुर्गा पूजा व शारदीय नवरा​त्रि एक ही हैं, यदि हां तो ये पढ़ें

नवरात्रि की नौ रातों और दस दिनों के दौरान, शक्ति / देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। जबकि दसवां दिन दशहरा के नाम से प्रसिद्ध है। शक्ति की देवी मां भगवती का ये नवरात्र पर्व वर्ष में चार बार आता है। पौष,चैत्र,आषाढ,अश्विन प्रतिपदा से नवमी तक मनाया जाता है। इसमें चैत्र व अश्विन माह में मुख्य नवरात्रि जबकि पौष व आषाढ़ में गुप्त नवरात्रि का पर्व मनाया जाता है।

नवरात्रि के नौ रातों में तीन देवियों - महालक्ष्मी, महासरस्वती या सरस्वती और दुर्गा के नौ स्वरुपों की पूजा होती है जिन्हें नवदुर्गा कहते हैं। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान, शक्ति / देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। दुर्गा का मतलब जीवन के दुख कॊ हटानेवाली होता है। नवरात्रि एक महत्वपूर्ण प्रमुख त्योहार है जिसे पूरे भारत में महान उत्साह के साथ मनाया जाता है।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि शारदीय नवरात्र में जहां नौ दिनों तक देवी मां के विभिन्न स्वरूपों की पूजा होती है, वहीं इस दौरान दुर्गा पूजा पर्व का आयोजन इसके छठे दिन से शुरु होता है। ऐसे में इस बार भी देवी पक्ष की शुरुआत के साथ दुर्गा पूजा का पर्व 22 अक्टूबर से शुरू होगा जो 26 अक्टूबर तक चलेगा।

MUST READ : गुजरात में इस शक्तिपीठ के पास मौजूद हैं मां दुर्गा के पैरों और रथ के निशान

https://www.patrika.com/temples/ambaji-temple-gujrat-where-the-heart-of-goddess-sati-was-fell-6469582/ IMAGE CREDIT: https://www.patrika.com/temples/ambaji-temple-gujrat-where-the-heart-of-goddess-sati-was-fell-6469582/

वहीं जानकारों के अनुसार इस वर्ष, महालया, जो देवी पक्ष की शुरुआत है और यह पितृ पक्ष की समाप्ति 17 सितंबर के एक माह बाद आया है ऐसे में दुर्गा पूजा 22 अक्टूबर से शुरू हो रही है। आमतौर पर, दुर्गा पूजा महालया के छह दिन बाद शुरू होती है, लेकिन इस साल यह माला के कारण अलग है (माला मास - चन्द्र मास जिसमें दो चन्द्रमा हों)।

वहीं बंगाली कैलेंडर के अनुसार, इस बार माला मास आश्विन महीने में है और दुर्गा पूजा शुभ अवसरों पर समाप्त होती है या अनुष्ठान इस समय के दौरान नहीं देखा जाता है। ऐसा माना जाता है कि देवी दुर्गा महालया के दिन पृथ्वी पर आती हैं। दुनिया भर में व्यापक रूप से मनाया जाने वाला 5 दिवसीय दुर्गा पूजा उत्सव बंगालियों का एक प्रमुख त्योहार है।

दुर्गा पूजा 2020 कैलेंडर : दिन-वार चार्ट
21 अक्टूबर, दिन 1 - पंचमी, कार्तिक 04, 1427, बिल्व निमन्त्रन, कल्पम्बर, अकाल बोधन, अमंत्रन और आदिवास

22 अक्टूबर, दिन 2 - षष्ठी, कार्तिक 05, 1427, नवपत्रिका पूजा, कोलाबौ पूजा

23 अक्टूबर, दिन 3 - सप्तमी, कार्तिक 06, 1427

24 अक्टूबर, दिन 4 - अष्टमी, कार्तिक 07, 1427, दुर्गा अष्टमी, कुमारी पूजा, संधि पूजा, महा नवमी

25 अक्टूबर, दिन 5 - नबामी, कार्तिक 08, 1427, बंगाल महा नवमी, दुर्गा बालिदान, नवमी होमा, विजयदशमी

26 अक्टूबर, दिन 6 - दशमी, कार्तिक 09, 1427, दुर्गा विसर्जन, बंगाल विजयदशमी, सिंदूर उत्सव

MUST READ : नवरात्रि के वे सरलतम उपाय जो दिलाएं शादी की समस्या से छुटकारा

https://www.patrika.com/religion-news/navratri-best-tips-for-your-marriage-early-as-possible-6469501/ IMAGE CREDIT: https://www.patrika.com/religion-news/navratri-best-tips-for-your-marriage-early-as-possible-6469501/

दुर्गा पूजा को दुर्गोत्सव के रूप में भी जाना जाता है, जिसमें देवी दुर्गा का भक्तों द्वारा स्वागत किया जाता है और 5-दिवसीय उत्सव की तैयारी बहुत पहले से शुरू हो जाती है। लोग भक्ति में डूब जाते हैं, मस्ती का आनंद लेते हैं और पंडाल-होपिंग कई पारंपरिक अनुष्ठानों और प्रथाओं के बगल में एक आकर्षण बना हुआ होता है, जो दुनिया भर में बंगालियों द्वारा कड़ाई से पालन किया जाता है।

शारदीय नवरात्रि 2020 / दुर्गा पूजा 2020 :

:- नवरात्रि दिन 6 : षष्ठी : मां कात्यायनी पूजा : 22 अक्टूबर 2020, बृहस्पतिवार / गुरुवार...

मां दुर्गा के छठे स्वरूप का नाम कात्यायनी है। उस दिन साधक का मन 'आज्ञा' चक्र में स्थित होता है। योगसाधना में इस आज्ञा चक्र का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है। इस चक्र में स्थित मन वाला साधक मां कात्यायनी के चरणों में अपना सर्वस्व निवेदित कर देता है। परिपूर्ण आत्मदान करने वाले ऐसे भक्तों को सहज भाव से मां के दर्शन प्राप्त हो जाते हैं।

मां कात्यायनी का स्वरूप : मां कात्यायनी का स्वरूप अत्यन्त दिव्य और स्वर्ण के समान चमकीला है। यह अपनी प्रिय सवारी सिंह पर विराजमान रहती हैं। इनकी चार भुजायें भक्तों को वरदान देती हैं, इनका एक हाथ अभय मुद्रा में है, तो दूसरा हाथ वरदमुद्रा में है अन्य हाथों में तलवार और कमल का फूल है।

देवी कात्यायनी अमोद्य फलदायिनी हैं इनकी पूजा अर्चना द्वारा सभी संकटों का नाश होता है, मां कात्यायनी दानवों तथा पापियों का नाश करने वाली हैं। मान्यता के अनुसार देवी कात्यायनी जी के पूजन से भक्त के भीतर अद्भुत शक्ति का संचार होता है। भक्त को माता के पूजन द्वारा सहजभाव से मां कात्यायनी के दर्शन प्राप्त होते हैं। साधक इस लोक में रहते हुए अलौकिक तेज से युक्त रहता है।

मां कात्यायनी की पूजा विधि : नवरात्रों के छठे दिन मां कात्यायनी की सभी प्रकार से विधिवत पूजा अर्चना करनी चाहिए फिर मां का आशीर्वाद लेना चाहिए और साधना में बैठना चाहिए। इस प्रकार जो साधक प्रयास करते हैं उन्हें भगवती कात्यायनी सभी प्रकार के भय से मुक्त करती हैं. मां कात्यायनी की भक्ति से धर्म, अर्थ, कर्म, काम, मोक्ष की प्राप्ति होती है।

पूजा की विधि शुरू करने पर हाथों में फूल लेकर देवी को प्रणाम कर देवी के मंत्र का ध्यान किया जाता है. देवी की पूजा के पश्चात महादेव और परम पिता की पूजा करनी चाहिए. श्री हरि की पूजा देवी लक्ष्मी के साथ ही करनी चाहिए।

मंत्र :
चंद्र हासोज्ज वलकरा शार्दूलवर वाहना।
कात्यायनी शुभंदद्या देवी दानव घातिनि।।

चढावा- षष्ठी तिथि के दिन देवी के पूजन में मधु का महत्व बताया गया है। इस दिन प्रसाद में मधु यानि शहद का प्रयोग करना चाहिए।

मनोकामना- मां कात्यायनी अमोघ फलदायिनी मानी गई हैं। शिक्षा प्राप्ति के क्षेत्र में प्रयासरत भक्तों को माता की अवश्य उपासना करनी चाहिए।

मनोवान्छित वर की प्राप्ति :
माना जाता है कि जिन कन्याओं के विवाह मे विलम्ब हो रहा हो, उन्हे इस दिन माँ कात्यायनी की उपासना अवश्य करनी चाहिए, जिससे उन्हें मनोवान्छित वर की प्राप्ति होती है।

विवाह के लिए कात्यायनी मंत्र-
'ऊॅं कात्यायनी महामाये महायोगिन्यधीश्वरि ! नंदगोपसुतम् देवि पतिम् मे कुरुते नम:।'

MUST READ :  इन 9 दिनों में गलती से भी न करें ये काम, ध्यान रखें ये 10 खास बातें

https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/things-which-to-keep-in-mind-during-navratri-6467350/ IMAGE CREDIT: https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/things-which-to-keep-in-mind-during-navratri-6467350/

:- नवरात्रि दिन 7 :सप्तमी : मां कालरात्रि पूजा : 23 अक्टूबर 2020, शुक्रवार...

नवरात्रि के सातवें दिन होती है मां कालरात्रि की पूजा। मां कालरात्रि को यंत्र, मंत्र और तंत्र की देवी कहा जाता है। कहा जाता है कि देवी दुर्गा ने असुर-रक्तबीज का वध करने के लिए कालरात्रि को अपने तेज से उत्पन्न किया था। इनकी उपासना से प्राणी सर्वथा भय मुक्त हो जाता है।

ऐसा है मां का स्वरूप: इनके शरीर का रंग काला है। मां कालरात्रि के गले में नरमुंड की माला है। कालरात्रि के तीन नेत्र हैं और उनके केश खुले हुए हैं। मां गर्दभ की सवारी करती हैं। मां के चार हाथ हैं एक हाथ में कटार और एक हाथ में लोहे का कांटा है।

मंत्र:
ॐ जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तु ते।।
जय त्वं देवि चामुण्डे जय भूतार्तिहारिणि।
जय सर्वगते देवि कालरात्रि नमोस्तु ते।।

 

- धां धीं धूं धूर्जटे: पत्नी वां वीं वूं वागधीश्वरी
क्रां क्रीं क्रूं कालिका देवि शां शीं शूं मे शुभं कुरु।।

बीज मंत्र : ऊं ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे। ( तीन, सात या ग्यारह माला करें)

कालरात्रि पूजा विधि : सप्तमी की पूजा अन्य दिनों की तरह ही होती परंतु रात्रि में विशेष विधान के साथ देवी की पूजा की जाती है। इस दिन कहीं कहीं तांत्रिक विधि से पूजा होने पर मदिरा भी देवी को अर्पित कि जाती है। सप्तमी की रात्रि ‘सिद्धियों’ की रात भी कही जाती है। पूजा विधान में शास्त्रों में जैसा वर्णित हैं उसके अनुसार पहले कलश की पूजा करनी चाहिए।

 

नवग्रह, दशदिक्पाल, देवी के परिवार में उपस्थित देवी देवता की पूजा करनी चाहिए फिर मां कालरात्रि की पूजा करनी चाहिए। दुर्गा पूजा में सप्तमी तिथि का काफी महत्व बताया गया है। इस दिन से भक्त जनों के लिए देवी मां का दरवाज़ा खुल जाता है और भक्तगण पूजा स्थलों पर देवी के दर्शन के लिए पूजा स्थल पर जुटने लगते हैं।

मनोकामना: मां की इस तरह की पूजा से मृत्यु का भय नहीं सताता। देवी का यह रूप ऋद्धि- सिद्धि प्रदान करने वाला है। देवी भगवती के प्रताप से सब मंगल ही मंगल होता है।

MUST READ : दुर्गा पूजा उत्सव 2020 - ये चार दिन हैं बेहद खास, ऐसे होगी हर मनोकामना पूरी

https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/which-days-are-most-special-between-this-shardiya-navratri-2020-6461836/ IMAGE CREDIT: https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/which-days-are-most-special-between-this-shardiya-navratri-2020-6461836/

:- नवरात्रि दिन 8 : अष्टमी : मां महागौरी,दुर्गा महा नवमी पूजा,दुर्गा महा अष्टमी पूजा : 24 अक्टूबर 2020, शनिवार...

नवरात्र के आठवें दिन आठवीं दुर्गा यानि की महागौरी की पूजा अर्चना और आराधना की जाती है। कहते हैं अपनी कठीन तपस्या से मां ने गौर वर्ण प्राप्त किया था। तभी से इन्हें उज्जवला स्वरूपा महागौरी, धन ऐश्वर्य प्रदायिनी, चैतन्यमयी त्रैलोक्य पूज्य मंगला, शारीरिक मानसिक और सांसारिक ताप का हरण करने वाली माता महागौरी का नाम दिया गया।
श्वेते वृषे समरूढा श्वेताम्बराधरा शुचिः।
महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा ।।

मां महागौरी की पूजा करने से मन पवित्र हो जाता है और भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इस दिन षोडशोपचार पूजन किया जाता है। मां की कृपा से अलौकिक सिद्धियों की प्राप्ति होती है। देवी महागौरी का अत्यंत गौर वर्ण हैं। इनके वस्त्र और आभूषण सफेद हैं। इनकी चार भुजाएं हैं। महागौरी का वाहन बैल है। देवी के दाहिने ओर के ऊपर वाले हाथ में अभय मुद्रा और नीचे वाले हाथ में त्रिशूल है। बाएं ओर के ऊपर वाले हाथ में डमरू और नीचे वाले हाथ में वर मुद्रा है।

पूजन विधि इस प्रकार है : सबसे पहले गंगा जल से शुद्धिकरण करके देवी मां महागौरी की प्रतिमा या तस्वीर चौकी पर स्थापित करें। इसके बाद चौकी पर चांदी, तांबे या मिट्टी के घड़े में जल भरकर उस पर नारियल रखकर कलश स्थापना करें। उसी चौकी पर श्रीगणेश, वरुण, नवग्रह, षोडश मातृका (16 देवी), सप्त घृत मातृका(सात सिंदूर की बिंदी लगाएं) की स्थापना भी करें।

इसके बाद व्रत, पूजन का संकल्प लें और वैदिक एवं सप्तशती मंत्रों द्वारा माता महागौरी सहित समस्त स्थापित देवताओं की षोडशोपचार पूजा करें। इसमें आवाहन, आसन, पाद्य, अध्र्य, आचमन, स्नान, वस्त्र, सौभाग्य सूत्र, चंदन, रोली, हल्दी, सिंदूर, दुर्वा, बिल्वपत्र, आभूषण, पुष्प-हार, सुगंधित द्रव्य, धूप-दीप, नैवेद्य, फल, पान, दक्षिणा, आरती, प्रदक्षिणा, मंत्र पुष्पांजलि आदि करें। इस दिन माता दुर्गा को नारियल का भोग लगाएं और नारियल का दान भी करें।

मां महागौरी का उपासना मंत्र:
श्वेते वृषे समारुढ़ा, श्वेताम्बरधरा शुचिः।
महागौरीं शुभं दद्यान्महादेवप्रमोदया।।

MUST READ : शारदीय नवरात्रि 2020 - आज से ही शुरु करें यह पाठ, स्वयं श्री राम करेंगे आपको रक्षित

https://www.patrika.com/religion-news/most-powerful-puja-during-navratri-6464960/ IMAGE CREDIT: https://www.patrika.com/religion-news/most-powerful-puja-during-navratri-6464960/

:- नवरात्रि दिन 9 : नवमी : मां सिद्धिदात्री,नवरात्रि पारणा,विजय दशमी : 25 अक्टूबर 2020, रविवार...

नवरात्रि के नौवें और आखिरी दिन माता सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। मां दुर्गा की नौवीं शक्ति देवी सिद्धिदात्री की पूजा करने से भक्तों को सारी सिद्धियां प्राप्त होती हैं। देवी सिद्धिदात्री को मां सरस्वती का भी एक रूप माना जाता है क्योंकि माता अपने सफेद वस्त्र एवं अलंकार से सुसज्जित अपने भक्तों को महाज्ञान एवं मधुर स्वर से मन्त्र-मुग्ध करती है। सिद्धिदात्री मां की पूजा के बाद ही अगले दिन दशहरा त्योहार मनाया जाता है।
देवी सिद्धिदात्री का रूप अत्यंत सौम्य है, देवी की चार भुजाएं हैं। दाईं भुजा में माता ने चक्र और गदा धारण किया है और बांई भुजा में शंख और कमल का फूल है। मां सिद्धिदात्री कमल आसन पर विराजमान रहती हैं, मां की सवारी सिंह हैं। मां की आराधना वाले इस दिन को रामनवमी भी कहा जाता है और शारदीय नवरात्रि के अगले दिन अर्थात दसवें दिन को रावण पर राम की विजय के रूप में मनाया जाता है।

ऐसे करें पूजा: इस दिन माता सिद्धिदात्री को नवाह्न प्रसाद, नवरस युक्त भोजन, नौ प्रकार के पुष्प और नौ प्रकार के ही फल अर्पित करने चाहिए। सर्वप्रथम कलश की पूजा व उसमें स्थपित सभी देवी-देवताओ का ध्यान करना चाहिए। इसके पश्चात माता के मंत्रो का जाप कर उनकी पूजा करनी चाहिए। इस दिन नौ कन्याओं को घर में भोग लगाना चाहिए। नव-दुर्गाओं में सिद्धिदात्री अंतिम है तथा इनकी पूजा से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है। कन्याओं की आयु दो वर्ष से ऊपर और 10 वर्ष तक होनी चाहिए और इनकी संख्या कम से कम 9 तो होनी ही चाहिए। यदि 9 से ज्यादा कन्या भोज पर आ रही है तो कोई आपत्ति नहीं है।

इस तरह से की गई पूजा से माता अपने भक्तों पर तुरंत प्रसन्न होती है। भक्तों को संसार में धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस दिन भक्तों को अपना सारा ध्यान निर्वाण चक्र की ओर लगाना चाहिए।

यह चक्र हमारे कपाल के मध्य में स्थित होता है। ऐसा करने से भक्तों को माता सिद्धिदात्री की कृपा से उनके निर्वाण चक्र में उपस्थित शक्ति स्वतः ही प्राप्त हो जाती है।

मां सिद्धदाद्धत्री का पूजा मंत्र :

सिद्धगन्‍धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि,
सेव्यमाना सदा भूयात सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।

देवी का बीज मंत्र :

ऊॅं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे नमो नमः ।।

मां सिद्धदात्री की पूजा में हवन करने के लिए दुर्गा सप्तशती के सभी श्लोकों का प्रयोग किया जा सकता है।

MUST READ : शारदीय नवरात्रि 2020 - घट स्थापना के मुहूर्त व सभी नौ दिनों के राहु काल, यहां देखें

https://www.patrika.com/dharma-karma/2020-navratri-all-days-shubh-muhuran-and-rahukal-6463149/ IMAGE CREDIT: https://www.patrika.com/dharma-karma/2020-navratri-all-days-shubh-muhuran-and-rahukal-6463149/

:- नवरात्रि दिन 10 : दशमी : दुर्गा विसर्जन : 26 अक्टूबर 2020, सोमवार

दुर्गा पूजा उत्सव का समापन दुर्गा विर्सजन के साथ होता है। दुर्गा विसर्जन का मुहूर्त प्रात:काल या अपराह्न काल में विजयादशमी तिथि लगने पर शुरू होता है। इसलिए प्रात: कालया अपराह्न काल में जब विजयादशमी तिथि व्याप्त हो, तब मां दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन किया जाना चाहिए। कई सालों से विसर्जन प्रात:काल मुहूर्त में होता आया है लेकिन यदि श्रवण नक्षत्र और दशमी तिथि अपराह्न काल में एक साथ व्याप्त हो, तो यह समय दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन के लिए श्रेष्ठ है।

MUST READ : Durga Puja 2020 - इस नवरात्रि दुर्गा सप्‍तशती की मदद से मां दुर्गा को करें प्रसन्न, पाएं मनचाहे वरदान

https://www.patrika.com/dharma-karma/durga-puja-2020-celebration-in-india-with-durga-saptshati-6460807/ IMAGE CREDIT: https://www.patrika.com/dharma-karma/durga-puja-2020-celebration-in-india-with-durga-saptshati-6460807/