चैत्र नवरात्रि के चौथे दिन तंत्र, आयु और समृद्धि की देवी इस माता की होती है पूजा

|

Updated: 27 Mar 2020, 06:04 PM IST

Chaita Navratri : चौथे दिन की माता करती है हर कामना पूरी

इस साल 2020 में 25 मार्च से माता दुर्गा की पूजा आराधना का महापर्व चैत्र नवरात्रि आरंभ हो चूका है। नवरात्रि के नौ दिनों तक माता के विभिन्न नौ रूपों की हर दिन अलग-अलग पूजा की जाती है। नवरात्रि के चौथे दिन तंत्र, आयु एवं धन समृद्धि की देवी इस माता की होती है विशेष पूजा अर्चना। जानें नवरात्रि में चौथे दिन कौन सी माता की होती है पूजा।

कोरोना वायरस से बचना है तो नवरात्रि का व्रत करने वाले न करें ऐसी गलती

नवरात्रि के चौथे दिन देवी माँ के भक्त मता कूष्मांडा की पूजा अर्चना की जाती है। हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार, माता कूष्मांडा सूर्यलोक में निवास करती है। माँ कूष्मांडा आठ हाथों वाली हैं जिनके हाथों में शंख, चक्र, गदा, धनुष बाण, मंत्रों का जाप करने वाली माला, कमंडल और एक हाथ में अमृत कलश है। माता कूष्मांडा को कुम्हड़ा का भोग अति प्रिय है, इसलिए भक्त उनकी कृपा पाने, आयु, यश एवं धन समृद्धि कामना से कुम्हड़े की बलि भी दी जाती है।

शनिवार कर लें ये चमत्कारी उपाय, महावीर हनुमान करेंगे कृपा

चौथे दिन ऐसे करें माता कूष्मांडा की पूजा

इस चैत्र नवरात्रि का चौथा दिन 28 मार्च दिन शनिवार को हैं, इस दिन सुबह नित्यकर्म और स्नान करने के बाद घर के पूजा स्थल की सफाई करके थोड़ा सा गंगाजल छिड़कें। लाल रंग के आसन पर बैठकर माता दुर्गा के माँ कूष्मांडा स्वरूप की विधिवत पूजा-अर्चना करें। माता को पूजन में देवी को लाल गुड़हल या लाल रंग का ही कोई भी दूसरा फूल अर्पित करें। माता को लाल रंग के श्रृंगार का सामान भेंट करें। माता को मालपुए का भोग लगाएं। पूजने के बाद श्रद्धापूर्वक माता की आऱती भी करें।

माँ दुर्गा के सिद्ध तांत्रिक मंत्र बदल देंगे जपने वालों का भाग्य

माता कूष्मांडा के इस मंत्र का जप करने से अनेक कामनाएं पूरी होने लगती है। इस मंत्र का जप लाल मुंगे की माला से 108 बार सुबह शाम करें।

मंत्र-

या देवि सर्वभूतेषू सृष्टि रूपेण संस्थिता

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

***********