जानिए, कैसे करें IBPS PO Exam की तैयारी, ये आसान टिप्स करेंगे आपकी मदद

|

Updated: 20 Mar 2020, 05:58 PM IST

Highlights-

- भारत में छात्रों की पहली पंसद सरकारी नौकरी है

-सरकारी नौकरी में सबसे ज्यादा पंसद युवाओं का बैंक सेक्टर की तरफ होता है

-बैंकिंग सेक्टर में कई नौकरियां निकलती है एेसे में ये जानना जरूरी है कि स्टूडेंट्स इसकी तैयारी कैसे करें

नई दिल्ली. सरकारी नौकरी (Sarkari Naukri) या गवर्नमेंट जॉब (Government Jobs) आज के समय में भी युवाओं द्वारा सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली नौकरी है। भारत में छात्रों की पहली पंसद सरकारी नौकरी है। सरकारी नौकरी में सबसे ज्यादा पंसद युवाओं का बैंक सेक्टर की तरफ होता है। युवाओं का बड़ा रूझान बैंकिंग सेक्टर में देखने को मिलता है। बैंकिंग सेक्टर में कई नौकरियां निकलती है ऐसे में ये जानना जरूरी है कि स्टूडेंट्स इसकी तैयारी कैसे करें।

ये है IBPS PO EXAM का पैटर्न

इसकी मांग भी सबसे ज्यादा है। इंडियन बैंकिंग पर्सनल सिलेक्शन (Institute of Banking Personnel Selection) आईबीपीएस पीओ की परीक्षा के लिए पांच सेक्शन होतो है। जिनमें इंग्‍लिश कॉम्प्रिहेंशन, क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड, रीजनिंग एबिलिटी, बैंकिंग अवेयरनेस और जनरल नॉलेज, कंप्‍यूटर अवेरनेस शामिल है।


ऐसे करें तैयारी

सिलेबस का पता चल जाने के बाद अगला नंबर आता है कि किस प्रकार इसकी तैयारी की जाये। एक्सपर्ट्स का कहना है कि बैंकिंग की परीक्षा के तैयारी के लिए 6 महीने का समय पर्याप्त होता है। लेकिन अगर आप ज्यादा समय तक तैयारी करना चाहते हैं तो यह आपके ऊपर निर्भर करता है। ध्यान रहे बैंकिंग परीक्षा की तैयारी के लिए सबसे पहले किताबों का सही सिलेक्शन जरूरी है। आप उन किताबों के चुनाव पर विशेष ध्यान दें जो बैंकिंग की तैयारी में आपके काम आने वाली हैं। इसके लिए किसी तजुर्बा वाले व्यक्ति से सहायता ले सकते हैं।

-बैंकिंग सेक्टर में स्पीड मायने रखती है तो अपनी स्पीड पर सबसे ज्यादा ध्यान दीजिए। एग्जाम में आपके पास सिर्फ 2 घंटे का समय मिलता है ऐसे में आपकी स्पीड बेहद तेज होनी चाहिए

-बैंक की परीक्षा में इन दो विषयों पर सबसे ज्यादा और सबसे अच्छी पकड़ होनी चाहिए। वह है अंग्रेजी व गणित।

-बैंकिंग की परीक्षा हो, चाहे कोई भी दूसरी परीक्षा सभी के लिए नियमित अभ्यास बेहद जरूरी है। ऐसा ना हो कि आप किसी दिन 8 घंटे पढ़ाई करते हैं तो अगले दिन 4 घंटे से ही काम चला लेते हैं। यह तरीका बिल्कुल गलत है। आपको नियमित टाइम टेबल बनाना होगा और उसी के हिसाब से पढ़ाई करनी होगी और रेगुलर हर सब्जेक्ट को पढ़ना होगा।