UP Assembly Elections 2022: शिवपाल यादव ने दो प्रत्याशियों का किया ऐलान, कहा जिस दल में होंगे हम, 2022 में उसी दल की बनेगी सरकार

|

Published: 31 Jul 2021, 07:08 PM IST

UP Assembly Elections 2022. प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (Pragatisheel Samajwadi Party) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) ने दावा किया है जिस दल में वह होंगे उसी दल की उत्तर प्रदेश विधानसभा में 2022 (2022 election) में सरकार बनेगी।

इटावा. UP Assembly Elections 2022: प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (Pragatisheel Samajwadi Party) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) ने दावा किया है जिस दल में वह होंगे उसी दल की उत्तर प्रदेश विधानसभा में 2022 (2022 election) में सरकार बनेगी। प्रसपा प्रमुख शिवपाल सिंह यादव अपने निर्वाचन क्षेत्र जसंवतनगर और ताखा में आक्सीजन प्लांट का शिलायंस करने पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि जिस दल में हम होंगे उसी दल की यूपी विधानसभा 2022 में सरकार बनेगी। आज उत्तर प्रदेश में हमारा संगठन बहुत मजबूत है। प्रसपा अध्यक्ष ने इस दौरान दो प्रत्याशियों का ऐलान भी किया। उन्होंने कहा कि पीएसपी ने इटावा सदर से पूर्व सांसद रघुराज सिंह साहब और भरथना से पूर्व मंत्री ग्याप्रसाद वर्मा के बेटे सुशांत वर्मा का टिकट भी घोषित कर दिया है।

ये भी पढ़ें- Shivpal Singh Yadav : प्रसपा के प्रदर्शन से जुड़ा है शिवपाल यादव का भविष्य

सीएम योगी ईमानदार, लेकिन नौकरशाही में भ्रष्टाचार: शिवपाल

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तो ईमानदार है, लेकिन नौकरशाही में व्यापक भ्रष्टाचार चरम पर है। इसी कारण जनता परेशान हो चुप्पी साधे हुए है जिसका जबाब चुनाव में मिलेगा। उन्होंने कहा कि 2022 में सरकार बनने के बाद प्रत्येक घर से एक बेटा और बेटी को नौकरी दिलाएंगे। इसके अलावा बिजली बिल माफ करके ढाई सौ यूनिट बिजली फ्री दिलाई जाएगी।

भ्रष्टाचार चरम सीमा पर: शिवपाल

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है कोई भी अधिकारी कर्मचारी बिना रिश्वत काम नहीं कर रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना की पहली लहर आने से पहले ही भाजपा सरकार को पता था इसके बावजूद कोई तैयारियां नहीं की गईं। तमाम लोग आक्सीजन के अभाव में जान गंवा बैठे लेकिन अब ऐसा न हो इसके लिए उन्होंने अपनी विधायक निधि से आक्सीजन प्लांट लगाने के लिए बीस लाख रूपए आवंटित किए थे लेकिन अनुमति न मिलने के कारण प्लांट की शुरुआत नहीं हो सकी है। यदि आक्सीजन प्लांट की अनुमति नहीं मिलती है तो इसी रकम से अस्पताल में आक्सीजन कंसट्रेटर लगवाने का काम करेंगे।