इकोनॉमी पर सरकार को चिदंबरम को सलाह, जानिए उन्होंने अपने ट्वीट में क्या कहा

|

Updated: 06 Sep 2020, 04:46 PM IST

  • चिदंबरम ने कहा, सरकार के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च बढ़ाना जरूरी
  • ट्वीट कर कहा, 50 फीसदी गरीब परिवारों को कैश ट्रांसफर करना जरूरी

नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री पी चिदम्बरम ( Former Finance Minister P Chidambaram ) ने रविवार को सरकार को नसीहत दी है कि सरकार इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च बढ़ाए जिससे कि अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाया जा सके। बता दें कि देश की जीडीपी चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में माइनस 24 प्रतिशत तक गिर गई है। कई सारे ट्वीट के जरिए चिदम्बरम ने कहा, अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए मांग बढ़ाना जरूरी है।

यह भी पढ़ेेंः- रेलवे में नौकरी के लिए एक पद के लिए 173 लोगों ने किया आवेदन, 15 दिसंबर को होगी ऑनलाइन परीक्षा

यह भी दी सलाह
50 फीसदी गरीब परिवारों को कैश ट्रांसफर करना जरूरी है। इतना ही नहीं, मुफ्त अनाज बांटने के साथ इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च बढ़ाना भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि गोदामों में पड़े अनाज का उपयोग भुगतान करने में भी किया जा सकता है। लोक निर्माण कार्य पर इस तरह से खर्च करने पर बैंक की वित्तीय स्थिति सुधरेगी और वो ज्यादा से ज्यादा कर्ज दे सकेंगे। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था को फिर से जीवित करने के लिए पैसे की जरूरत पड़ेगी। सरकार को इसके लिए कर्ज लेना पड़ेगा।

यह भी पढ़ेेंः- सरकार ने BPCL के Privatization के नियमों को बनाया आसान, निवेशकों को होगा ऐसा लाभ

कर्ज लेने में संकोच ना करें
उन्होंने कहा कि इन सब कामों के लिए बहुत से रुपयों की जरुरत होगी। इसके लिए उन्हें सरकार को कर्ज लेने में बिल्कुल भी संकोच नहीं करना चाहिए। उन्होंने सरकार को सुझाव दिया कि सरकार को धन जुटाने के कुछ ठोस कदम इस प्रकार के हो सकते हैं।

यह भी पढ़ेेंः- अमेजन पर चाइनीज ब्रांड्स को फर्जी रेटिंग देने का बड़ा खुलासा,जानिए फिर क्या हुआ

यह भी उठाने होंगे कदम
सरकार को एफआरबीएम के प्रावधानों को सरल बनाना होगा। इस साल अधिक कर्ज उठाने होंगे। डिसइंवेस्टमेंट को तेज करना होगा। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष, विश्वबैंक, एशियाई विकास बैंक आदि की 6.5 अरब डॉलर की पेशकश का इस्तेमाल करें। वहीं उन्होंने कहा कि राजकोषीय घाटे का मौद्रीकरण करें यानी सीधे रिजर्व बैंक को बॉन्ड देकर रुपया लें।

यह भी पढ़ेेंः- यूपी को Ease of Doing Business Ranking में दूसरा स्थान, जानिए आपके प्रदेश की है कौन सी रैंकिंग