मजदूरों को जल्द मिल सकता है Health और Life Insurance का तोहफा, मोदी सरकार बदलेगी कानून

|

Updated: 15 Jul 2020, 11:42 AM IST

  • प्रवासी मजदूरों ( Migrant Labour ) को मिलेगा कॉन्ट्रैक्ट वर्कर (Contract Workers) का दर्जा
  • न्यूनतम पेंशन से लेकर हेल्थ और लाइफ इंश्योरेंस ( health and life insurance ) देने की भी सिफारिश
  • 31 जुलाई तक संसदीय कमेटी सौंपेगी रिपोर्ट

नई दिल्ली: लॉकडाउन ( CORONA LOCKDOWN ) की प्रक्रिया के दौरान सभी मजदूर अपने-अपने घरों की तरफ वापस चले गए लेकिन अब जबकि अर्थव्यवस्था एक बार फिर से काम करने के लिए तैयार हो रही है ( भले ही कोरोना नहीं खत्म हुआ ) और प्रवासी मजदूर फिर से बड़े शहरों में काम के लिए जाने की तैयारी रहे हैं । केंद्र सरकार प्रवासी मजदूरों को राहत देने के लिए एक बड़ा कदम उठाने वाली है। सरकार प्रवासी मजदूरों ( Migrant Labour ) को सामाजिक सुरक्षा ( Social Security ) के दायरे में लाने की कवायद में जुट गई है। बताया जा रहा है कि सरकार जल्द ही मजदूरों को न्यूनतम पेंशन ( Minimum Pension) और हेल्‍थ व लाइफ इंश्योरेंस कवर ( health and life insurance to Migrant Labour ) जैसे तोहफे दे सकती है।

नहीं कम होगी Hand Sanitisers की कीमत, देना होगा 18 फीसदी GST

31 जुलाई तक सौंपी जानी है रिपोर्ट-

बताया जा रहा है कि मजदूरों के लिए सोशल सिक्योरिटी कोड में नए प्रावधानों को शामिल किया जाने की तैयारी हो रही है । जिसके बाद प्रवासी मजदूरों को कॉन्ट्रैक्ट वर्कर (Contract Workers) का दर्जा देने की व्‍यवस्‍था की जाएगी। इसके लिए संसद की स्थाई समिति ( Standing Committee ) अपनी सिफारिशों ( Recommendations ) में बदलाव कर रही है और सरकार इन सिफारिशों को सत्र में बिल के रूप में पास कराएगी । जुलाई 2020 के आखिर तक स्थायी समिति अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंप देगी।

प्रवासी मजदूरों को मिलेंगी ये सुविधाएं- संसद की स्‍थायी समिति ने प्रवासी मजदूरों के लिए हेल्थ और लाइफ कवर की सिफारिश करने के साथ न्यूनतम पेंशन की व्‍यवस्‍था की बात कही है। इसके अलावा मजदूरों को आवास सुविधा (Housing Facility) देने की भी सिफारिश की गई है। इसके साथ ही मजदूरों को अपने गृहराज्य जाने और आने के लिए कंपनी द्वारा खर्च देने की बात भी कही जा रही है।

इसके लिए Interstate Migrant Workmen Act 1979 में संशोधन किया जाएगा । ये प्रस्ताव जल्द ही कैबिनेट में भेजा जा सकता है। वहीं, इन सुविधाओं को प्राप्त करने के लिए हर वर्कर को अलग यूनिक ID कार्ड दिया जाएगा। जिसके बाद ऐसे कामगारों को तमाम सुविधाएं मिलनी शुरू हो जाएंगी।