अमरीका से व्यापार संरक्षणवाद मुद्दे को उठाएगा भारत : सुरेश प्रभु

|

Updated: 21 Mar 2018, 09:05 AM IST

WTO के बैठक के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में वाणिज्य व उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा, हर देश की इसके प्रति एक अलग प्रतिक्रिया होगी।

अमरीका से व्यापार संरक्षणवाद मुद्दे को उठाएगा भारत : सुरेश प्रभु

नर्इ दिल्ली। भारत ने मंगलवार को कहा कि वह अमरीका द्वारा हाल में उठाए गए व्यापारिक संरक्षणवादी उपायों के मुद्दे को द्विपक्षीय रूप से उठाएगा। विश्व व्यापार संगठन (WTO) के सदस्य देशों के मंत्रियों की अनौपचारिक बैठक के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में वाणिज्य व उद्योग एवं नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा, "हर देश की इसके प्रति एक अलग प्रतिक्रिया होगी। स्पष्ट तौर पर हम अमरिका को स्टील या एल्यूमिनियम के सबसे बड़े निर्यातक नहीं हैं।"


अमरीका से अच्छे व्यापारिक आैर राजनीतिक संबंध

उन्होंने कहा, "हम इसे अमरीका के साथ उठाएंगे, जिसके साथ हमारा बहुत बड़ा व्यापार सरप्लस है और हमारे अच्छे राजनीतिक संबंध हैं। हम इसे उनके साथ द्विपक्षीय रूप से रखेंगे।" मंत्री का यह बयान महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि हाल में अमरीका ने स्टील पर 25 फीसदी व एल्यूमिनियम पर 10 फीसदी आयात शुल्क लगाया है। इससे वैश्विक व्यापार संघर्ष की संभावना बढ़ी है। WTO के महानिदेशक रॉबटरे अजेवेडो के अनुसार, अमरिका द्वारा हाल में लागू किए गए व्यापार संरक्षणवाद उपायों के मुद्दे के भड़कने की बड़ी संभावना है।

 

WTO की मेजबानी कर रहा भारत

अजेवेडो ने कहा, "मैंने सार्वजनिक तौर पर कहा है कि मैं बहुत चिंतित हूं और मेरा मानना है कि संस्था स्वयं भी यही कह सकती है क्योंकि इन उपायों के जो भी कारण हों, इसके तेजी से भड़कने की बड़ी संभावना है। यह संभावना दूसरे भागीदारों द्वारा प्रतिक्रिया में व्यापार प्रतिबंध उपायों की है। मेरा मानना है कि इससे बचना चाहिए।" इसके अलावा प्रभु ने कहा कि बैठक में 'खाद्य सुरक्षा' मुद्दे पर भी 'स्पष्ट व बेबाक रूप से' चर्चा की गई। इससे पहले प्रभु ने कहा कि भारत WTO ढांचे का एक मजबूत समर्थक है और यह संगठन को मजबूत बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। भारत WTO की अनौपचारिक मंत्रीस्तरीय बैठक की मेजबानी कर रहा है, जो मंगलवार को शुरू हुई। इस बैठक में 52 देशों के प्रतिनिधिमंडल भाग ले रहे हैं।