उज्ज्‍वला योजना को मिली अपार सफलता, भारत बना दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा LPG कंज्‍यूमर देश

|

Published: 06 Feb 2019, 02:11 PM IST

पेट्रोलियम सचिव एम एम कुट्टी ने बताया कि ये योजना सफल हुई है और देश में एलपीजी की मांग 2025 तक 34 फीसदी बढ़ने का अनुमान है। इसके साथ ही भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा एलपीजी उपभोक्ता बन गया है।

नई दिल्ली। सरकार ने देशभर में एलपीजी के उपभोग को प्रोत्साहन देने के लिए केंद्र की नरेंद्र मोदी कई कदम उठाए हैं। प्रत्येक परिवार को स्वच्छ रसोई गैस ईंधन उपलब्ध कराने के लिए सरकार द्वारा 2016 में उज्ज्वला योजना की शुरुआत की गई थी। पेट्रोलियम सचिव एम एम कुट्टी ने बताया कि ये योजना सफल हुई है और देश में एलपीजी की मांग 2025 तक 34 फीसदी बढ़ने का अनुमान है। इसके साथ ही भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा एलपीजी उपभोक्ता बन गया है।


इतनी सफल रही उज्ज्‍वला योजना


एशिया एलपीजी सम्मेलन को संबोधित करते हुए कुट्टी ने कहा कि एलपीजी उपभोक्ताओं की संख्या में सालाना आधार पर 15 फीसदी वृद्धि हुई है। वर्ष 2014-15 में एलपीजी उपभोक्ताओं की संख्या 14.8 करोड़ थी जो 2017-18 में बढ़कर 22.4 करोड़ हो गई। एलपीजी उपभोग में औसतन 8.4 फीसदी वृद्धि हुई है। इससे 2.25 करोड़ टन के साथ भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा एलपीजी उपभोक्ता बन गया है। पेट्रोलियम मंत्रालय के अनुमान के अनुसार 2025 तक एलपीजी उपभोग बढ़कर 3.03 करोड़ टन पर पहुंच जाएगा। 2040 तक यह आंकड़ा 4.06 करोड़ टन होगा। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई) के तहत 6.31 करोड़ कनेक्शन उपलब्ध कराए गए हैं।


2020 तक आठ करोड़ कनेक्शन देने का लक्ष्य

उज्ज्वला योजना मई, 2016 में शुरू हुई थी, जिसके तहत तीन साल मे पांच करोड़ गरीब महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया था। इनमें से अब तक छह करोड़ गरीब महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन दिया जा चुका है। सरकार ने इस योजना के तहत 2020 तक आठ करोड़ कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा है। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि देश में एलपीजी की पहुंच 90 फीसदी पर पहुंच गई है। यह संख्या 2014 में 55 फीसदी थी।

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।