सोने पर Amnesty Programme ला सकती है मोदी सरकार, देनी होगी घर में रखे गोल्ड की जानकारी

|

Updated: 31 Jul 2020, 11:27 AM IST

वित्त मंत्रालय ( Finance Ministry ) भारत में गैरकानूनी रूप से घरों में रखे हुए सोने के ऊपर एमनेस्टी प्रोग्राम ( Amnesty Programme ) लाने का विचार कर रही है।

नई दिल्ली : मोदी सरकार ( Modi Govt ) की नजर घरों में रखे सोने पर है और इसीलिए सरकार अब इस बहुमूल्य पीली धातु के बारे में एक नया नियम लाने वाली है । खबरों के मुताबिक वित्त मंत्रालय ( Finance Ministry ) भारत में गैरकानूनी रूप से घरों में रखे हुए सोने के ऊपर एमनेस्टी प्रोग्राम ( Amnesty Programme ) लाने का विचार कर रही है। इस प्रोग्राम के जरिए सरकार टैक्स चोरी और सोने के आयात ( Gold Import ) में कमी लाना चाहती है ।

प्रधानमंत्री मोदी ने एक बार फिर की MSMEs की तरफदारी, बैंको को ज्यादा लोन देने की कही बात

सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) के सामने सोने से संबंधित यह प्रस्ताव रखा गया है और इस प्रस्ताव में कहा गया है कि सरकार लोगों से अपील करें कि वह गैरकानूनी रूप से रखे हुए सोने के बारे में टैक्स विभाग को जानकारी दें इसके लिए उन्हें लेवी या पेनल्टी देनी होगी। अभी इस प्रस्ताव पर कुछ भी तय नहीं किया गया है यह अपने शुरुआती चरण में ही है और सरकार फिलहाल संबंधित अधिकारियों से बातचीत कर इसे लागू करने के लिए उठाए जाने वाले कदमों पर विचार कर रही है ।

यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि प्रधानमंत्री मोदी ( PM Modi ) ने राज्यों की सहमति से साल 2015 में तीन प्लांट के बारे में जानकारी दी थी जो कि घरों में रखे लगभग 25000 टन सोने संस्थानों द्वारा फिजिकल गोल्ड ( Physical Gold ) रखना और आयात के बारे में था ताकि निवेश के वैकल्पिक साधन मिल सके ।हालांकि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा चलाई गई इस प्रोग्राम के बारे में लोग बहुत ज्यादा उत्साहित नहीं हुए क्योंकि हमारे समाज का एक वर्ग सोने के प्रति अपने मुंह को नहीं छोड़ पा रहा था ।साथ ही घरों में रखा हुआ सोना ज्वेलरी के रूप में रखा हुआ है जो लोग अलग-अलग मौकों पर पहनते हैं वहीं कुछ लोगों को इस बात का भी डर था कि टैक्स विभाग को पता चलने पर उन्हें इस सोने पर दंड स्वरूप बड़ा जुर्माना देना पड़ेगा ।

सरकार के साथ इस प्रस्ताव पर काम करने वाले अधिकारियों की माने तो लोग अपने पास रखें गोल्ड का ब्यौरा देंगे तो उन्हें कानूनी रूप से सोने का एक हिस्सा सरकार के पास कुछ वक्त के लिए रखना होगा ।वैसे आपको बता दें कि पहले भी इस तरह की खबरें मार्केट में आ चुकी है कि सरकार एमएनएस की प्रोग्राम पर विचार कर रही है लेकिन तक टैक्स विभाग ( IT Dept ) ने इस को खारिज कर दिया था ।

सोने की कीमतों ( Gold Rate ) में आई है जबरदस्त तेजी -कोरोनावायरस ( Corona Pandemic ) की वजह से जिस तरह से पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था ( Global Economy ) चरमरा गई है उसके बाद में सोना सबसे शानदार निवेश ( Investment In Gold ) का विकल्प बनकर उभरा है ।कोरोनावायरस के इस दौर में सोने की कीमतों ने जबरदस्त ऊंचाई हासिल की है ।गुरुवार को सोने की कीमतें 118 पर बढ़कर ₹53742 पर पहुंच गई है वहीं चांदी की कीमतों में गिरावट दर्ज की गई और चांदी की कीमत ₹64100 थी ।