अमरीका के व्यापार वर्ग को पसंद आए भारत के नए FDI नियम, किया स्वागत

|

Updated: 29 Aug 2019, 02:35 PM IST

  • अमरीका के व्यापार समूह ने एफडीआई सुधारों का स्वागत किया
  • निवेशकों की धारणा होगी मजबूत

नई दिल्ली। अमरीका के एक शीर्ष व्यापार समूह ने प्रत्यक्ष विदेशी निवेश ( एफडीआई ) के क्षेत्र में नए सुधारों का स्वागत किया। समूह ने कहा कि भारत अपने मानकों को वैश्विक नियमों के अनुरूप बनाने के लिए काफी प्रयास कर रहा है। अमरीका-भारत सामरिक भागीदारी मंच ( यूएसआईएसपीएफ ) ने मोदी सरकार के कोयला खनन और ठेका विनिर्माण में 100 फीसदी विदेशी निवेश को मंजूरी देने, एकल ब्रांड खुदरा विक्रेताओं के लिए स्थानीय खरीद नियमों में ढील और दुकान खोलने से पहले ऑनलाइन कारोबार करने की अनुमति देने के कदम का स्वागत किया।


मुकेश अघी ने दी जानकारी

फोरम के अध्यक्ष मुकेश अघी ने कहा कि आर्थिक वृद्धि को फिर से तेजी की राह पर लाने के लिए अर्थव्यवस्था को और उदार बनाने तथा विदेशी निवेश आकर्षित करने की भारत की कोशिशों को देखकर हमें खुशी हो रही है। उन्होंने कहा कि इन प्रयासों से कारोबारी बाधाएं दूर होंगी और विदेशी निवेशकों के लिए बराबरी के अवसर सृजित होंगे।


ये भी पढ़ें: देश के सबसे अमीर गणपति बप्पा का हो रहा इंश्योरेंस, इस बार गणेश चतुर्थी पर पहनेंगे 20 करोड़ की ज्वैलरी


निवेशकों की धारणा होगी मजबूत

यह निवेशकों की धारणा को मजूबत करेगा और विनिर्माण में सुधार एवं रोजगार सृजन में मदद करेगा। इसके साथ ही अघी ने कहा कि कोयला खनन और ठेका विनिर्माण में शत प्रतिशत विदेशी निवेश की अनुमति, एकल ब्रांड खुदरा कारोबारियों के लिये स्थानीय खरीद नियमों में ढील देने, डिजिटल मीडिया में 26 फीसदी विदेशी निवेश की अनुमति देने जैसे कदम दर्शाते हैं कि सरकार भारतीय मानकों को वैश्विक नियमों के अनुरूप बनाने के लिए गंभीर प्रयास कर रही है। इसका उद्देश्य कारोबार करने के माहौल को सुगम बनाना है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App