Latest News in Hindi

रहस्यमई है ये गुफा, शिवलिंग से मिलता है दुनिया के खत्म होने का संकेत

By Priya Singh

Mar, 11 2018 10:55:11 (IST)

इस गुफा का उल्लेख कई पुराणों में भी किया गया है। इस गुफा के बारे में बताया जाता है कि इसमें दुनिया के समाप्त होने का भी रहस्य छुपा हुआ है।

नई दिल्ली। ये दुनिया वैसे भी रहस्यमई चीजों और जगहों से भरी हुई है। उत्तराखंड के गंगोलीहाट गांव भुवनेश्वर में पाताल भुवनेश्वर गुफा स्थित है। यह गुफा पिथौरागढ़ जिले में मौजूद है। ये गुफा अपने सीने में कई राज दफनाए हुए है। इस गुफा का उल्लेख कई पुराणों में भी किया गया है। इस गुफा के बारे में बताया जाता है कि इसमें दुनिया के समाप्त होने का भी रहस्य छुपा हुआ है। इस गुफा का नाम पाताल भुवनेश्वर है। पुराण में पाताल भुवनेश्वर गुफा को भगवान शिव का निवास स्थान माना जाता है।

यहां ऐसी मान्यता है कि यहां सभी देवी-देवता आकर शिव जी की आराधना करते हैं। गुफा के अंदर का नजारा बेहद ही अलग है। जो इस गुफा में जाता है वो वो बाहर की दुनिया को भूलकर उसके रहस्यों में खो जाता है। अंदर जाने पर आपको पाता चलेगा कि गुफा के अंदर एक अलग ही दुनिया बसी हुई है।

गुफा के अंदर जाने के लिए लोहे की जंजीरों का सहारा लेना पड़ता है यह गुफा पत्थरों से बनी हुई है इसकी दीवारों से पानी रिश्ता रहता है जिसके कारण यहां के जाने का रास्ता बेहद चिकना है। गुफा में शेष नाग के आकर का पत्थर है उन्हें पृथ्वी पकड़ते देखा जा सकता है। इस गुफा की सबसे खास बात तो यह है कि यहां एक शिवलिंग है जो लगातार बढ़ रहा है। यहां शिवलिंग को लेकर यह मान्यता है कि जब यह शिवलिंग गुफा की छत को छू लेगा, तब दुनिया खत्म हो जाएगी।

संकरे रास्ते से होते हुए इस गुफा में प्रवेश किया जा सकता है। जमीन के अंदर लगभग 8 से 10 फीट नीचे जाने पर गुफा की दीवारों पर हैरान कर देने वाली आकृतियां नजर आने लगती हैं। दीवारों पर हंस बने हुए हैं जिसके बारे में ये माना जाता है कि यह ब्रह्मा जी का हंस है। गुफा के अंदर एक हवन कुंड भी है। इस कुंड के बारे में कहा जाता है कि इसमें जनमेजय ने नाग यज्ञ किया था जिसमें सभी सांप जलकर भष्म हो गए थे। इस गुफा में एक हजार पैर वाला हाथी भी बना हुआ है। देहरादून से पाताल भुवनेश्वर की दूरी 223 किलोमीटर है। आप रोजवेज बस, टैक्सी या फिर अपने वाहन से पाताल भुवनेश्वर जा सकते हैं।

Related Stories