बाबा राम देव बोले-'देशद्रोहियों की तरह हमारे खिलाफ करवाई FIR, बाजार में बिकेगी हमारी दवाई'

|

Published: 01 Jul 2020, 06:30 PM IST

योग गुरु ने कहा कि आयुष मंत्रालय के साथ जिन भी मुद्दों पर बात नहीं बन पा रही थी वह हल हो गए हैं (Yog Guru Baba Ramdev On Ayurvedic Corona Virus Medicine) (Uttarakhand News) (Dehradun News) (Coronavirus Vaccine) (Coronavirus Ayurvedic Treatment) (Coronil Issue Update) (Patanjali Coronil)...

(देहरादून, हैदराबाद): दुनियाभर में कहर बरपा रहे Coronavirus की दवा बनाने का दावा करने के बाद एक बार फिर योग गुरु बाबा रामदेव ने पतंजलि की कोरोनिल दवाई को लेकर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि आयुष मंत्रालय के साथ जिन भी मुद्दों पर बात नहीं बन पा रही थी वह हल हो गए हैं। उन्होंने बताया कि अब कोरोनिल और श्वासारी वटी पर किसी भी तरह का प्रतिबंध नहीं है। यह दवाई अब पूरे देश में उपलब्ध होगी।

यह भी पढ़ें: कपड़ों का बिजनेस छोड़ सन्यासी बने थे 'गोल्डन बाबा', पापों के प्रायश्चित के लिए उठाया ये कदम

ड्रग माफिया चाहता था दवा हो बैन...

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि ड्रग माफिया चाहता था कि कोरोनिल और श्वासारि बैन हो। आयुष मंत्रालय ने कोविड मैनेजमेंट के लिए पतंजलि के प्रयासों की सराहना की है। इससे सभी विरोधियों के मंसूबों पर पानी फिर गया है। वह हरिद्वार स्थित पतंजलि योगपीठ में आचार्य बालकृष्ण के साथ 'कोरोनिल' को लेकर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने बताया कि क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल की पूरी रिसर्च आयुर्वेद विभाग को भेजी है, तय मापदंडों के आधार पर ही रिसर्च की गई।

यह भी पढ़ें: नियम तोड़ दिल्ली से गांव आया Coronavirus पॉजिटिव, यूं खुली पोल, पूरा परिवार हो गया फरार

देशद्रोही के जैसा सलूक...

विरोधियों पर निशाना साधते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि योग और आयुर्वेद का काम करना मानों गुनाह हो गया है। उन्होंने कहा कि देशद्रोही और आतंकवादियों के खिलाफ जिस तरह एफआइआर होती है, हमारे साथ भी वही किया गया।

यह भी पढ़ें: यहां हीरे और सोने के भरे पड़े हैं भंडार, देश को फिर से बना सकते हैं सोने की चिड़िया

 

यह है कीमत...

आगे जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि कोरोनिल और श्वासारी वटी से मरीजों की सेहत में सुधार आया है। पतंजलि के माध्यम से इसे सभी तक पहुंचाया जाएगा। जल्द इसके लिए ऑर्डर मी ऐप लॉन्च होगा। उन्होंने बताया कि आयुष मंत्रालय ने पतंजलि की दवाई को इम्यूनिटी बूस्टर माना है। कोरोना पीड़ित मरीज श्वासारी और कोरोनिल खाकर इम्यूनिटी बढ़ा सकेंगे। हालांकि कोरोना किट की जगह इसका नाम बदलकर श्वासारि कोरोनिल किट रखा गया है। किट की कीमत 535 रुपए है।

यह भी पढ़ें: चीनी लोग क्यों नहीं खेलते क्रिकेट? शत्रुघ्न सिन्हा ने खोला राज, जानकर नहीं रोक पाएंगे हंसी

यह है दवाई के घटक तत्व...

दवाई के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि कोरोनिल के लिए गिलोय, अश्वगंधा तुलसी की सुनिश्चित मात्रा ली गई। इसी तरह दालचीनी और अन्य से श्वासारी वटी को तैयार किया गया। इनके लाइसेंस अलग-अलग हैं, पर इनका एकसाथ प्रयोग किया गया। इनपर संयुक्त रूप से ट्रायल हुआ है। उन्होंने यह भी बताया कि तीनों औषधियों का लाइसेंस यूनानी और आयुर्वेद मंत्रालय से लिया गया है। कुछ लोग सवाल कर रहे हैं कि रिसर्च किस पर कर रहे हैं। इसका जवाब ये है कि आयुर्वेद में औषधियों के परंपरागत गुणों की रिसर्च पर लाइसेंस मिलता है। हमने परंपरागत गुणों के आधार पर लाइसेंस लिया है। उन्होंने बताया कि पांच सौ से ज्यादा वैज्ञानिक हमारी रिसर्च टीम में शामिल हैं।

उत्तराखंड की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...