देवभूमि पर मौसम का कहर, हर की पौड़ी पर बिजली गिरने से मची तबाही

|

Updated: 21 Jul 2020, 02:30 PM IST

कोरोना वायरस के दस्तक देने के बाद से ही बड़ी संख्या में भूकंप, बेहिसाब बारिश और वज्रपात की घटनाएं भी देखने को मिली है (Thunderclap on Har ki Pauri Haridwar Uttarakhand) (Uttarakhand News) (Uttarakhand Weather) (Weather Update)...

(देहरादून): साल 2020 अपने साथ काफी विपदाएं लेकर आया है। कोरोना वायरस के दस्तक देने के बाद से ही बड़ी संख्या में भूकंप, बेहिसाब बारिश और वज्रपात की घटनाएं भी देखने को मिली है। इन सभी घटनाओं के एक साथ होने को पर्यावरणीय असंतुलन से जोड़कर देखा जा रहा है। वज्रपता की ऐसी ही बड़ी घटना पहाड़ी राज्य उत्तराखंड के हरिद्वार में देखने को मिली है। हर की पौड़ी पर आकाशील बिजली ने कहर बरपाया है जिससे 80 फीट की दीवार गिर गई।

यह भी पढ़ें: सब्जी कारोबारी का आरोप, कोविड अस्पतालों में फेंककर दिया जा रहा खाना, पानी के लिए भी हो रहे परेशान

मानसून के मौसम में बेहिसाब बारिश से उत्तराखंडवासियों को वैसे भी काफी मुसीबत का सामना करना पड़ा है। बादल फटने, भूस्खलन की घटनाएं आम सी हो गई है। लेकिन हर की पौड़ी पर बिजली गिरने की घटना से सभी दहशत में है। यह हादसा सोमवार देर रात ब्रह्मकुंड के नजदीक हुआ है। कोरोना वायरस की वजह से लोगों के आने जाने की मनाही होने की वजह से यहां भीड़ मौजूद नहीं थी इस वजह से कोई हताहत नहीं हुआ। लेकिन दीवार और सीढ़ियों टूटने से चारों तरफ मलबा फैल गया।

 

यह भी पढ़ें: N-95 Mask को लेकर केंद्र सरकार का अलर्ट, इससे नहीं रुकता Coronavirus

प्रशासन अब मलबे को हाटाने का काम कर रहा है। स्थानीय लोगों के भी यहां आने पर रोक लगा दी गई है। इधर उत्तराखंड के पिथैरागढ़ जिले के तांगा गांव में भूस्खलन की घटना में 11 लोग लापता हो गए हैं। एसडीआरएफ की तीन टीमें इन्हें ढूंढ़ने में लगी हुई हैं। मौसम विभाग ने आगामी दिनों में भारी बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है।

ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...