भारत के मुकाबले पाकिस्तानी क्रिकेटर्स को मिलती हैं इतनी कम सैलरी

|

Published: 10 Jun 2021, 11:00 PM IST

पूर्व भारतीय बल्लेबाज और कमेंटेटर आकाश चोपड़ा ने पाकिस्तानी क्रिकेट खिलाड़ियों की सैलरी का खुलासा किया। बीसीसीआई के मुकाबले पीसीबी है बेहद गरीब क्रिकेट बोर्ड।

 

 

 

नई दिल्ली। भारत में क्रिकेट सबसे पॉपुलर और अमीर खेल हैं। भारतीय क्रिकेटर्स (Indian Cricket Players) को सालाना करोड़ों रुपए की सैलरी मिलती हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं हमेशा भारत की बराबरी की बात करने वाला पाकिस्तान अपने खिलाड़ियों (Pakistani Cricket Players) को कितनी सैलरी देता हैं। नहीं ना! तो आइए जानते हैं पाकिस्तानी खिलाड़ियों को भारतीय क्रिकेटर्स के मुकाबले कितनी सैलरी मिलती है।

यह भी पढ़ें—23 वर्षीय हरदीप कौर भारत के लिए जीत चुकी हैं 20 मेडल, अब खेतों में कर रही हैं मजदूरी

सबसे रईस हैं भारतीय क्रिकेटर्स
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर और महेंद्र सिंह जैसे भारतीय दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेटर्स हैं। भारत के खिलाड़ियों को बीसीसीआई अलग-अलग रूप में काफी पैसा देता है। जबकि पाकिस्तानी क्रिकटर्स को बहुत कम पैसा मिलता है। भारतीय क्रिकेटर्स एडवरटाइजमेंट्स से इतना पैसा कमाते हैं उनकी 7 पीढ़ी बैठे-बैठे खा ले तो भी खत्म ना हों।

पाकिस्तानी vs भारतीय खिलाड़ियों की सैलरी
हाल ही भारत के पूर्व खिलाड़ी और कमेंटेटर आकाश चोपड़ा ने पाकिस्तानी खिलाड़ियों को मिलने वाली सैलरी का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अनुबंध के तहत ए ग्रेड खिलाड़ी को 46 लाख, बी ग्रेड को 28 लाख और सी ग्रेड को 19 लाख रुपए दिए जाते हैं। जबकि भारतीय खिलाड़ियों के अनुबंध को बीसीसीआई ने अलग-अलग ग्रेड में विभाजित कर रखा है, जिसमें ए प्लस ग्रेड वाले को 7 करोड़, ए ग्रेड वाले 5 करोड़, बी ग्रेड वाले 3 करोड़, सी ग्रेड वाले एक करोड़ रुपए का भुगतान किया जाता है।

यह भी पढ़ें—ये हैं धोनी के 5 सबसे महंगे शौक, 826 करोड़ के हैं मालिक, रिटायरमेंट के बाद भी कमाते हैं करोड़ों

BCCI देता है ईनाम और पुरस्कार
पाकिस्तान के खिलाड़ियों की सैलरी और मैच फिस इतनी कम है कि भारत के खिलाड़ियों के आगे कहीं नहीं ठहरते हैं, इसके अलावा भारत के खिलाड़ियों को अच्छे प्रदर्शन की एवज में बीसीसीआई ईनाम और पुरस्कार भी देता है। जिसमें शतक और पारी में 5 विकेट लेने पर 5 लाख रुपए और दोहरा शतक जड़ने पर 7 लाख रुपए अलग से दिए जाते हैं।