शोएब अख्तर का खुलासा, मुरलीधरन को आउट करना सबसे मुश्किल होता था

|

Updated: 14 Jul 2021, 06:11 PM IST

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने अपने इंटरव्यू में खुलाया कि मुरलीधरन मुझसे कहते थे कि अगर आप बांउसर गेंद मारोगे तो मैं कर जाऊंगा।


 

नई दिल्ली। पाकिस्तान के पूर्व बल्लेबाज शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) को 'राहुल पिंडी एक्सप्रेस' के नाम से पहचाना जाता है। वह अपने समय के सबसे खतरनाक गेंदबाजों में से एक रहे हैं। उनकी स्टीक यॉर्कर और बाउंसर के सामने हर कोई बल्लेबाज अपना विकेट गंवाने पर मजबूर हो जाता था। जब वह गेंदबाजी करते थे तो सामने वाला बल्लेबाज सोचता था कि जैसे-तैसे मैं यह ओवर निकाल दूं। क्योंकि उनकी यॉर्कर गेंंद किसी भी बल्लेबाज के लिए एक बुरे सपने से कम नहीं होती थी। पिछले दिनों एक इंटरव्यू में शोएब अख्तर ने खुलासा किया था कि कौनसा बल्लेबाज उन्हें कहता था कि अगर बाउंसर मारोगे तो मैं मर जाऊंगा और फिर गेंद को बाउंड्री पार पहुंचा देता था।

यह भी पढ़ें— भुवनेश्वर और चहल पर भारी पड़े पृथ्वी शॉ, जमकर लगाए चौके और छक्के, वीडियो वायरल

मुश्किल का था मुरलीधरन का विकेट लेना
अख्तर ने खुलासा किया, 'मुथैया मुरलीधरन एक ऐसे बल्लेबाज थे, जिन्हें आउट करना सबसे मुश्किल होता था। श्रीलंका का यह महान स्पिनर 11वें नंबर पर बैटिंग करने आता था। जिन बल्लेबाजों को मैंने गेंदबाजी की है, उनमें मुरलीधरन का विकेट लेना सबसे मुश्किल था। वे मजाक—मजाक में मुझसे कहते थे कि अगर आप मुझे बाउंसर मारोगे तो मैं मर जाऊंगा। आप थोड़ा गेंद को आगे रखें मैं खुद ही आउट हो जाऊंगा।' अख्तर ने आगे कहा, 'जब मैं गेंद आगे करता था, मुरली उसे जोर से मारते थे और मुझे कहते थे कि ये उनसे गलती से लग गई।'

यह खबर भी पढ़ें:—स्टोक्स का बुक ‘ऑन फायर’ में खुलासा, वर्ल्ड कप में जानबूझकर हारी टीम इंडिया

मुरलीधन ने अपनी घूमती गेंदों से बल्लेबाजों को खूब छकाया
मुरलीधरन और अख्तर एक समय दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हुआ करते थे। एक तरफ अख्तर अपनी रफ्तार से बल्लेबाजों को मात देते थे तो मुरलीधरन अपनी घूमती गेंदबाजों से खूब छकाते थे। मुरली टेस्ट और वनडे में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे। उनके टेस्ट में 800 और वनडे में 534 विकेट हैं। वहीं पाकिस्तान के पूर्व गेंदबाज शोएब अख्तर के नाम टेस्ट में 178 और वनडे में 247 विकेट हैं। दोनों ही दुनिया के महान बल्लेबाजों में शुमार हुए हैं, लेकिन विकेट लेने के मामले में मुरलीधरन ने अख्तर को कहीं पीछे छोड़ दिया था।