9 करोड़ रुपये में बिका 11 साल पुराना दुनिया का सबसे बेकार Laptop

|

Published: 29 May 2019, 02:53 PM IST

  • 12 साल पुराना है Samsung का ये Laptop
  • इस Laptop में है दुनिया के सारे वायरस

9 करोड़ रुपये में बिका 11 साल पुराना दुनिया का सबसे बेकार Laptop

नई दिल्ली: आज कल हर कोई ऐसा लैपटॉप ( Laptop ) खरीदना चाहता है जो काफी सुक्षित और लेटेस्ट हो। इसके अलावा यूजर्स अपने डिवाइस को वायरस से बचाने के लिए कई तरह के एंटीवायरस का इस्तेमाल भी करते हैं। लेकिन क्या आपको कोई ऐसा लैपटॉप खरीने को कहा जाए जो साल 2008 का मॉडल हो और जिसमें दुनिया के सारे खतरनाक malware इकठ्ठा हों तो ? शायद ही इस लैपटॉप को कोई खरीदना चाहेंगा और किसी दूसरे को भी ना खरीदने की सलाह देगा। लेकिन आपको यह जान कर हैरानी होगी कि Samsung कंपनी के साल 2008 मॉडल के लैपटॉप को एक व्यक्ति ने 1.3 अरब डॉलर करीब ( 9 करोड़ रुपये ) में खरीदा है।

यह भी पढ़ें: जून में लॉन्च होंगे ये शानदार स्मार्टफोन्स, किसी में होगा पॉप-अप कैमरा तो कोई होगा 5 रियर कैमरे से लैस

सैमसंग के इस 12 साल पुराने लैपटॉप को खरीने का मतलब यह है कि अपने आप को सीधे तौर पर नुक्सान पहुंचाना। मालूम हो मई 2017 का वाना क्राई ( Wanna Cry ) रैनसमवेयर हमले ने लगभग 150 देशों में 200,000 से अधिक कंप्यूटर को सीधे तौर पर प्रभावित किया था। इस वायरस की वजह से 8 अरब डॉलर का नुकसान हुआ था। इससे पहले BlackEnergy ने साल 2015 और सबसे पहला मैलवेयर I Love You जिसने ईमेल के जरिए कई कंप्यूटर को प्रभावित किया था।

यह भी पढ़ें: Flipkart Cooling Days Sale: यहां एसी और फ्रिज पर मिल रही है 60% तक की छूट

मैलवेयर में वायरस, स्पायवेयर और रैंसमवेयर जैसे खतरनाक वायरस शामिल होते हैं जो किसी भी डिवाइस से यूजर की जानकारी को निकालने के लिए काम करते हैं। इससे पहले इन वायरस से बचने के लिए माइक्रोसॉफ्ट विडोंज 7, एक्सपी और इससे पुराने वेरिएंट के यूजर्स तो तुरंत अपने ऑपरेटिंग सिस्टम को अपडेट करने की चेतावनी दी गई थी। बता दें विंडोज के तीन नए वर्जन आने के बावजूद अभी भी दुनियाभर में 36% कंप्यूटर विंडोज 7 पर और 3.5% एक्सपी सॉफ्टवेयर पर काम कर रहे हैं।