अगर वाहन इंश्योरेंस ले रहे हैं तो एड-ऑन जरूर शामिल करें, जानें इसके फायदे

|

Published: 07 Oct 2021, 01:18 PM IST

इंश्योरेंस क्लेम नहीं करने पर नो क्लेम बोनस साल दर साल बढ़ता रहता है।
कार इंश्योरेंस में एड-ऑन शामिल करना फायदेमंद , मोटर इंश्योरेंस के ये एड-ऑन वाहन मालिकों को तनावमुक्त कर देंगे।

नई दिल्ली। कार खरीदते वक्त मोटर इंश्योरेंस लेना अनिवार्य होता है। बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस के रिटेल अंडरराइटिंग हेड गुरदीप बत्रा ने बताया कि अक्सर लोग इंश्योरेंस कराते वक्त जरूरी एड-ऑन लेना भूल जाते हैं, जिससे दुर्घटना, वाहन को क्षति होने पर पॉलिसीधारकों को पूरा क्लेम नहीं मिल पाता है। मोटर इंश्योरेंस के ये एड-ऑन वाहन मालिकों को तनावमुक्त कर देंगे।

व्हीकल रिप्लेसमेंट एड-ऑन -
कार पूरी तरह से नष्ट हो गई तो यह एड-ऑन काम आता है। इसमें समान बनावट, मॉडल, फीचर्स, स्पेसिफिकेशंस के बराबर या निकट समकक्ष वाहन प्राप्त कर सकते हैं। यह कवर चोरी या कार डैमेज होने पर कार के चालान मूल्य के लिए क्लेम करने की सुविधा देता है। इसमें कार की ऑन-रोड कीमत का भुगतान होता है।

इंजन प्रोटेक्शन -
यह एड-ऑन कार के इंजन में पानी के प्रवेश, गियरबॉक्स की क्षति, हाइड्रोस्टेटिक लॉक को नुकसान जैसी घटनाओं से बचाता है। यह इंजन, उसके पूर्जों जैसे सिलेंडर हेड, पिस्टन, क्रैंकशाफ्ट, कनेक्टिंग रॉड को बदलने या मरम्मत करने की लागत को क्लेम करने का अनुमति देता है।

कंज्यूमेबल कवर -
कार के कंज्यूमेबल कम्पोनेंट जैसे लुब्रिकेंट, इंजन ऑयल, ब्रेक ऑयल, नट और बोल्ट, ऑयल फिल्टर को मोटर बीमा पॉलिसी के तहत बाहर रखा गया है। दुर्घटना के क्लेम के दौरान इन पुर्जों को बदलने का खर्च वाहन मालिकों को वहन करना पड़ता है। कंज्यूमेबल कवर ऐसे नुकसान से बचाता है।