अगर कुछ बैंक किस्त सरकार चुका देती तो माहौल ज्यादा बेहतर होता

|

Updated: 06 Jun 2020, 11:51 AM IST

आईआईएफएल के चेयरमैन निर्मल जैन का कहना है कि देश में यह आपदा पहले कभी नहीं आई है। किसी को अंदाजा नहीं है कि आखिर इसके लिए तैयारी कैसे करनी चाहिए थी। सरकार ने मोनोटोरियम की घोषणा की है, अच्छी बात है, लेकिन बेहतर होता कि सरकार छोटे कारोबारियों की बैंक किस्त खुद तीन महीने या छह महीने जमा कर देती तो शायद ज्यादा पॉजिटिव माहौल बनता।