जागरूकता से बच सकती है जान : किसानों की जान ले रहा कीटनाशक

|

Published: 09 Aug 2020, 12:59 PM IST

किसानों की खेतों में फसलों पर कीटनाशक दवाइयों का छिडक़ाव करते हुए कीटनाशक के सम्पर्क में आने से अकाल मौत हो जाती है। अकेले हाड़ौती में ही एक पखवाड़े में खरीफ की फसलों में कीटनाशक का छिडक़ाव करते हुए 6 किसानों की मौत हो गई।

बिना मास्क लगाए नहीं करें कीटनाशक का छिडक़ाव
कोटा. किसानों की खेतों में फसलों पर कीटनाशक दवाइयों का छिडक़ाव करते हुए कीटनाशक के सम्पर्क में आने से अकाल मौत हो जाती है। अकेले हाड़ौती में ही एक पखवाड़े में खरीफ की फसलों में कीटनाशक का छिडक़ाव करते हुए 6 किसानों की मौत हो गई। करीब 12 किसान कीटनाशक के असर से अचेत हो गए, जिन्हें अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा।
सालभर में करीब 22-24 से अधिक किसानों की मौत खेतों में कीटनाशक दवाइयों के छिडक़ाव करते वक्त होती है। कीटनाशक के सम्पर्क में आने से एक साल में सौ से अधिक किसान अस्पतालों में पहुंच रहे हैं। किसानों को पता ही नहीं है कि कीटनाशक का छिडक़ाव करते वक्त क्या-क्या सावधानियां बरती जानी चाहिए। उधर कृषि विभाग का कहना है कि किसानों को हर साल जागरूक किया जाता है। इसके लिए समय-समय पर कार्यशालाएं भी आयोजित की जाती हैं।
खरीफ सीजन में इन दिनों फसलों को कीट और रोगों से बचाव के लिए किसान खेतों में कीटनाशक दवाइयों का छिडक़ाव कर रहे हैं। इस कारण कीटनाशक से पीडि़त किसानों के मामलों में भी अचानक बढ़ोतरी आ गई है।

कृषि विभाग ने जारी की एडवाइजरी
कीटनाशक का छिडक़ाव करते वक्त किस तरह की सावधानियां बरती जानी हैं। इसके बारे में कृषि विभाग की ओर से किसानों के लिए एडवाइजरी जारी की गई है। कोरोना काल में किसानों को सोशल मीडिया पर संदेश भेजकर भी जागरूक किया जा रहा है।

केस : एक
केशवरायपाटन थाना क्षेत्र के देहीत गांव में शुक्रवार को फ सल में कीटनाशक दवा छिडक़ते समय बेहोश हुए देहीत निवासी अमन मीणा की मौत हो गई। पुलिस के अनुसार वह खेत में कीटनाशक छिडक़ाव कर रहा था, कीटनाशक के असर तबीयत बिगड़ गई थी, उसे गंभीर अवस्था में कोटा चिकित्सालय में भर्ती करवाया जहां मृत्यु हो गई।

केस : दो
गोपालपुरा के बाबूलाल जाट की पिछले दिनों खेत में कीटनाशक दवा का छिडक़ाव करते वक्त सम्पर्क में आने से अकाल मौत हो गई थी। परिजनों ने उपचार के लिए बाबूलाल को अस्पताल में भर्ती करवाया, लेकिन कीटनाशक का असर ज्यादा होने के कारण जान नहीं बच पाई। किसान ने कीटनाशक का छिडक़ाव करते वक्त मास्क नहीं लगा रखा था।

बरतें सावधानी
किसान मुंह पर मास्क लगाकर ही कीटनाशक का छिडक़ाव करें।
हाथों में भी ग्ल्ब्स पहनकर कीटनाशक का छिडक़ाव किया जाए।
सूर्यास्त से पहले कीटनाशक का छिडक़ाव किया जाए।
हवा के विपरीत दिशा में कीटनाशक का छिडक़ाव नहीं करें।
कीटनाशक का छिडक़ाव हाथों के बजाए मशीन से स्प्रे कर करें।


किसानों को कीटनाशक का छिडक़ाव करते वक्त सावधानी बरतनी चाहिए। ग्ल्ब्स पहनकर ही छिडक़ाव करना चाहिए। विभाग की ओर से किसानों को सावधानियों के बारे में लगातार बताया जाता है।
रामावतार शर्मा, संयुक्त निदेशक, कृषि विभाग कोटा