अफगानिस्तान में शूटिंग करने गए अमिताभ बच्चन की सुरक्षा में लगा दी थी आधी एयरफोर्स

|

Updated: 27 Aug 2021, 10:27 AM IST

हिंदी सिनेमा जगत के दिग्गज अभिनेता अमिताभ को अफगानिस्तान में काफी पसंद किया जाता था। एक बार जब अभिनेता फिल्म की शूटिंग के लिए वहां गए थे। अफगानिस्तान में अमिताभ बच्चन की खूब खातिरदारी की गई थी। यही नहीं अफगानिस्तान में बिग बी को सम्मानित भी किया गया था।

 

नई दिल्ली। इन दिनों अफगानिस्तान की राजधानी काबुल संकट से जूझ रही है। तालिबान ने काबुल पर कब्जा कर लिया है। जिसकी वजह से वहां की जनता देश को छोड़कर दूसरी जगहों पर जानें के लिए मजबूर हो गई है। भारत का भी अफगानिस्तान से खास कनेक्शन रहा है। अफगानिस्तान के लोगों के बीच हिंदी सिनेमा को लेकर खूब क्रेज देखा जाता था। ज्यादातर हिंदी फिल्मों की शूटिंग अफगानिस्तान में ही होती थी। जिनमें से एक फिल्म 'खुदा गवाह' थी। इस फिल्म की शूटिंग को अफगानिस्तान में शूट किया गया था। फिल्म में अभिनेता अमिताभ बच्चन और श्रीदेवी लीड रोल में थे। अफगानिस्तान में दिग्गज अभिनेता अमिताभ बच्चन पर जान छिड़कते थे।

हिंदी सिनेमा पसंद किया जाता था अफगानिस्तान में

फिल्म 'खुदा गवाह' की शूटिंग 1991-92 में अफगानिस्तान के मजार-ए-शरीफ में हुई थी। जिसके बाद अमिताभ बच्चन ने एक इटंरव्यू दिया था। साल 2013 को दिए इंटरव्यू में अमिताभ बच्चन ने बताया था कि सोवियत संग ने कुछ समय पहले ही नजीबुल्लाह अहमदजई को सत्ता सौंपी थी। खास बात ये थी कि वो हिंदी सिनेमा के फैन थे। अमिताभ बच्चन ने इंटरव्यू में ये भी बताया था कि वो उनसे मिले थे और उन्होंने उन्हें शाही सम्मान से नवाज़ा था।

अमिताभ बच्चन की सुरक्षा दी आधी एयरफोर्स

फिल्म 'खुदा गवाह' की शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन को तत्कालीन राष्ट्रपति ने उनकी सुरक्षा के लिए आधी एयरफोर्स लगा दी थी। खुदा गवाह अफगानिस्तान में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली फिल्म थी। बताया जाता है बिग बी की मां तेजी बच्चन को शूटिंग के दौरान बेटे अमिताभ बच्चन और श्रीदेवी की काफी चिंता सता रही थी। तेजी बच्चन फिल्म मेकर्स से भी बहुत गुस्सा थीं। उन्होंने कहा था कि अगर उनेक बच्चों को कुछ हो या तो।

यह भी पढ़ें- टाइगर संग फाइट सीन की खबर सुन उड़ गए थे Amitabh Bachchan के होश, कहा- 'कभी नहीं भूल सकता वो पल'

अमिताभ बच्चन के लिए रोक दी थी लड़ाई

अफगानिस्तान के राजदूत रहे शाइदा मोहम्मद अब्दाली ने भारत में एक इंटरव्यू में कहा था कि अफगानिस्तान में अमिताभ बच्चन को लोग बहुत चाहते थे। यही नहीं अफगानिस्तान में अमिताभ बच्चन को शाही सम्मान से सम्मानित किया गया था। आपको ये बात जानकर हैरानी होगी कि जब अमिताभ अफगानिस्तान गए थे।

तब अफगानिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति नजीबुल्लाह से उनकी बेटी ने रिक्वेस्ट की थी कि वो एक दिन के लिए मुजाहिदीन से लड़ाई रोकने की बात करें। ये बात सुनकर राष्ट्रपति ने मुजाहिदीन से अपील की थी कि देश में सुपरस्टार अमिताभ बच्चन आए हैं तो लड़ाई रोक दें ताकि वो आराम से शहर घूम सकें।

 

यह भी पढ़ें- बहू बनकर जया बच्चन पहुंची थीं हरिवंश राय बच्चन के गांव, अमिताभ का पुश्तैनी घर अब हो गया है खंडर

 

अफगानिस्तान में अमिताभ बच्चन को किया गया सम्मानित

आपको बता दें फिल्म 'खुदा गवाह' में अमिताभ बच्चन ने पठान का रोल निभाया था। साथ ही श्रीदेवी ने उनकी प्रेमिका और पत्नी का रोल निभाया था। फिल्म में श्रीदेवी ने डबल रोल में दिखाई दी थीं। फिल्म में शिल्पा शिरोडकर, डैनी डेंजोंगप्पा, किरन कुमार, जैसी कई बड़ी हस्तियां नज़र आई थीं। इस फिल्म के निर्देशक मुकुल एस.आनंद हैं। ये फिल्म साल 1992 में रिलीज हुई थी।

फिरोज खान ने अफगानिस्तान में बनाई थी पहली फिल्म

वैसे आपको बता दें अफगानिस्तान में पहली हिंदी फिल्म 46 साल पहले 1975 में बनाई गई थी। एक्टर और डायरेक्टर फिरोज खान ने अफगानिस्तान में पहली हिंदी फिल्म धर्मात्मा बनाई थी। फिल्म में फिरोज खान ने अफगानिस्तान की कई खूबसूरत जगहों को दिखाया था। धर्मात्मा फिल्म का गाना 'क्या खूब लगती हो बड़ी सुंदर दिखती हो' अफगानिस्तान के 'बामिया बुद्धाज' में शूट किया गया था। जो जबरदस्त हिट हुआ था।