व्यापमं के पेपर लीक होने के कारण तीन परीक्षाएं निरस्त, कमलनाथ ने की CBI जांच की मांग

|

Updated: 27 Aug 2021, 09:30 PM IST

मध्यप्रदेश पीएईबी (व्यापमं) के तहत 2020-21 के बीच ली गईं 10 परीक्षाओं की जांच में खुलासा..तीन परीक्षाओं को किया गया निरस्त..

भोपाल. मध्यप्रदेश प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड के तहत ली गई तीन भर्ती परीक्षाओं को निरस्त कर दिया गया है। जिन भर्ती परीक्षाओं को निरस्त किया गया है उनमें वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी और नर्सिंग भर्ती परीक्षा शामिल है। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि पेपर लीक होने के कारण इन परीक्षाओं को निरस्त किया गया है। बता दें कि ये भर्ती परीक्षाएं तो हो चुकी थीं लेकिन अभी तक इनका रिजल्ट घोषित नहीं किया गया था।

 

पेपर लीक होने की मिली थी सूचना-गृहमंत्री
गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि पेपर लीक हुए थे। इसके कारण वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी, नर्सिंग भर्ती की परीक्षा निरस्त कर दी गई है। उन्होंने बताया कि प्रश्न पत्र के लीक होने की सूचना मिली थी जिसे गंभीरता से लेते हुए 2020-21 के बीच ली गईं 10 परीक्षाओं की जांच की गई जिसमें सामने आया कि 10 में से तीन परीक्षाओं के पेपर लीक हुए थे। हालांकि इन परीक्षाओं का अभी परिणाम नहीं आया है और इससे पहले ही इन्हें निरस्त कर दिया गया है। गृहमंत्री ने ये भी बताया कि इसमें अभी तक किसी भी पीईबी के कर्मचारी की संलिप्तता सामने नहीं आई है। साइबर सेल मामले की जांच करेगी। बताया जा रहा है कि जांच में सामने आया है कि 10 फरवरी को एक लॉग में प्रश्न पत्र लीक हुआ था। जिसकी परीक्षा 11 फरवरी को हुई थी। ये पेपर सिस्टम हैक करके लीक किया गया था। इसके बाद वर्ष 2020 और 2021 में हुई परीक्षाओं की जांच हुई थी। इस दौरान सामने आया कि सेंधमारी कर 10 में से 3 परीक्षाओं के प्रश्नपत्र लीक हुए थे।

ये भी पढ़ें- शिवराज सिंह चौहान का पलटवार, सोनिया गांधी और कमलनाथ पहले अपना घर संभाल लें

कमलनाथ ने की सीबीआई जांच की मांग
वहीं इस मामले में पूर्व सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर इस मामले की सीबीआई जांच की मांग की है। कमलनाथ ने एक के बाद एक तीन ट्वीट किए जिनमें लिखा- सरकार द्वारा मध्यप्रदेश प्रोफेशनल एग्ज़ामिनेशन बोर्ड की वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी व नर्सिंग परीक्षा को निरस्त करने का निर्णय लिया गया है।इन परीक्षाओं को लेकर शुरू दिन से ही निरंतर फ़र्ज़ीवाडे की शिकायतें सामने आ रही थी। ख़ुद अभ्यर्थी इसको लेकर निरंतर शिकायतें कर रहे थे। यह प्रदेश का व्यापमं पार्ट- 2 है। मैं सरकार से मांग करता हूं कि इस पूरे फ़र्ज़ीवाडे के मामले को तत्काल सीबीआई को सौंपा जाये। सीबीआई इस पूरे मामले की जांच करे क्योंकि इन परीक्षाओं से हज़ारों अभ्यार्थियों का भविष्य जुड़ा हुआ था और बड़े पैमाने पर इन परीक्षाओं को लेकर फ़र्ज़ीवाडा सामने आया है।

देखें वीडियो- सीएम शिवराज सिंह चौहान का पलटवार