महबूबा के बयान पर गर्माई प्रदेश की सियासत, भाजपा नेता बोले- क्या तिरंगे का अपमान करने वाला देश में रह पाएगा

|

Published: 24 Oct 2020, 05:59 PM IST

मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने महबूबा मुफ्ती द्वारा दिये बयान को आड़े हाथो लेते हुए सवाल किया कि, 'क्या तिरंगे का अपमान करने वाला देश में रह पाएगा।'

भोपाल/ जम्मू और कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती द्वारा तिरंगा न उठाने के बयान की उपचुनाव से पहले अब मध्य प्रदेश में भी एंट्री हो गई है। भाजपा द्वारा महबूबा के इस बयान को बड़े ही कठोर शब्दों में लिया जा रहा है। मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने महबूबा मुफ्ती द्वारा दिये बयान को आड़े हाथो लेते हुए सवाल किया कि, 'क्या तिरंगे का अपमान करने वाला देश में रह पाएगा।'

 

पढ़ें ये खास खबर- मां चामुंडा और तुलजा भवानी ने किया महागौरी स्वरूप में दर्शन, उमड़ा आस्था का सैलाब


तिरंगे का अपमान करने वाले के साथ होगा ये सुलूक- शर्मा

रामेश्वर शर्मा ने ये भी कहा कि, महबूबा मुफ्ती का असली चेहरा और चरित्र देश के सामने आ गया है। उन्होंने कहा कि, जो व्यक्ति देश का तिरंगा हाथ में लेगा, उसी को जम्मू-कश्मीर की राजनीति करने का अधिकार होना चाहिए। रामेश्वर ने कड़े शब्दों में कहा कि, जो देश के तिरंगे झंडे का अपमान करेगा, वो हिंदुस्तान की जमीन पर नहीं रह पाएगा। ऐसे इंसान को जेल की सलाखों के पीछे डाला जाएगा।

 

पढ़ें ये खास खबर- Corona Update : तेजी से आ रहा सुधार, 24 घंटे में सामने आए 251 नए संक्रमित, 668 की मौत

 

पाकिस्तान के एजेंटों को स्वीकार नहीं किया जाएगा- रामेश्वर

रामेश्वर शर्मा ने कड़े शब्दों में महबूबा को नसीहत देते हुए कहा कि, अगर उन्हें हिंदुस्तान में रहना है, तो तिरंगा हाथ में लेना ही पड़ेगा। आज देश में मोदी सरकार हैं। ऐसे लोगों पर देशद्रोह का केस दर्ज कर जेलों में डाला जाएगा। शर्मा ने सार्वजनिक तौर कहा कि, जो लोग हिंदुस्तान में रहकर पाकिस्तान के एजेंट बनकर काम कर रहे हैं। उन्हें बिल्कुल स्वीकार नहीं किया जाएगा।

 

पढ़ें ये खास खबर- कर्ज के बोझ से परेशान फिर एक किसान ने की आत्महत्या, पेड़ से लटका मिला कंकाल


महबूबा ने कही थी ये बात

जम्मू और कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार को एक प्रेस वार्ता में देश के कई मुद्दों पर मीडिया से बातचीत की थी। इस दौरान उन्होंने कहा था कि, हम अनुच्छेद 370 वापस लेकर रहेंगे। वार्ता के दौरान उन्होंने ये भी ऐलान किया था कि, जब तक ऐसा नहीं होता, वो कोई चुनाव नहीं लड़ेंगी। इसी वार्ता के दौरान महबूबा मुफ्ती ने तिरंगे को लेकर भी ये बात कही थी कि, 'मैं जम्मू-कश्मीर के अलावा दूसरा कोई झंडा नहीं उठाऊंगी।' उनके इस बयान पर देशभर में भाजपा का खासा विरोध देखने को मिल रहा है।