पीएम मोदी को नियंत्रित करने की बात बोलकर ट्रोल हो गए दिग्विजय सिंह

|

Updated: 02 Jul 2020, 03:07 PM IST

दिग्विजय सिंह ने किया ट्वीट, बोले- मोहन भागवत जी, जरा मोदी जी को नियंत्रित करो

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री एवं राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह (digvijay singh) अपने ट्वीट को लेकर एक बार फिर सुर्खियों में हैं। इस बार वे प्रधानमंत्री (prime minister of india ) के बारे में ट्वीट कर ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए। दिग्विजय का यह ट्वीट काफी वायरल हो रहा है और लोग उसमें तरह-तरह के कमेंट्स लिख रहे हैं।

दिग्विजय सिंह एक बार फिर गुरुवार को ट्वीट कर ट्रोलर्स के निशाने पर हैं। ताजा ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि अहं और अहंकार ने रावण की लंका जला दी और दुर्योधन के अहं और अहंकार ने महाभारत का युद्ध करा दिया। यहीं अहं और अहंकार आज मोदीजी में नजर आ रहा है।

दिग्विजय सिंह ने अपने ट्वीट में आरएसएस प्रमुख () मोहन भागवत से अपील कर डाली कि वे मोदीजी को नियंत्रित करें। दिग्विजय ने यह ट्वीट दो जुलाई को किया है।

 

इसलिए किया यह ट्वीट
दरअसल, दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का एक वीडियो शेयर किया। जिसमें प्रियंका कह रही हैं कि देश ने घमंड और अहंकार को कबी माफ नहीं किया है। इतिहास गवाह है। महाभारत इसका गवाह है। इस वीडियो में कांग्रेस महासचिव ने कथित रूप से प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा है। जिसमें उन्होंने कहा है कि ऐसा अहंकार दुर्योधन में भी था। भगवान श्रीकृष्ण जबदुर्योधन को समझाने गए तो उन्होंने कृष्ण को भी बंधक बनाने की कोशिश की थी।

 

 

यूजर्स के निशाने पर आ गए दिग्विजय
दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री को लेकर जो ट्वीट किया, उसे लेकर दिग्विजय सोशल मीडिया पर यूजर्स के निशाने पर आ गए। ट्वीटर पर एक यूजर अमित तेवतिया लिखते हैं कि यहां ट्वीटर पर उंगली घिसने की बजाय बेहतर है कि प्रियंका के अवैध सरकारी बंगले पर जाकर सामान बंधवाने में पंजे घिसो और फोटो डालो।

-वहीं मुकेश कुमार नामक एक यूजर लिखते हैं कि चार लाइन बगैर देखे बोल नहीं पाते? और चले हैं नेता बनने?
वहीं जयचंद नामक यूजर कहते हैं कि आपके ऊपर एक कहावत सटीक बैठती है। रस्सी जल गई, लेकिन अकड़ नहीं गई।

-इसी प्रकार देवेंद्र मिश्रा के यूजर आईडी से लिखा गया है कि ये मैं क्या सुन रहा हूं। आप राम और कृष्ण की बात कर रहे हैं। वही राम कृष्ण जिनको आपकी पार्टी काल्पनिक मानती है।

-भारतीय नामक यूजर ने भी लिखा है कि लंका तो कांग्रेस की जली है, जिस दिन आसाराम बापू के ऊपर इतना गंदा आरोप लगाकर जेल में डाला गया था, उस दिन से देख लो और सोचो लंका दहन किसका हुआ है। आज कांग्रेस बीजेपी दोनों खामोश हैं। अगर किसी से सवाल करो तो जवाब नहीं देते।

दूसरी ओर राधे सिंह तोमर ने ट्वीटर पर लिखा है कि इसी अहंकार ने कांग्रेस की लुटिया डुबो दी पर अहंकारी अभी अहंकार में चूर हैं। तुष्टिकरण व हिंदुओं का शोषण तुरंत बंद करे कांग्रेस।

वहीं मोहित जैन लिखते हैं कि तुम्हारे अहंकार ने कांग्रेस को तबाह कर दिया बंटाधार।