'डेल्टा और डेल्टा प्लस वैरिएंट' बन सकता है तीसरी लहर का कारण, पूरी तरह से बरतें सावधानी

|

Published: 13 Jul 2021, 11:41 AM IST

बीते दिनों ही सीएम शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशवासियों से अपील की थी कि सावधान रहें.....

भोपाल। कोरोना की संभावित तीसरी लहर को लेकर अब मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार की चिंताएं बढ़ने लगी हैं। हालही में मध्य प्रदेश की राजधानी में ही इन दोनों वेरिएंटों के संक्रमित सामने भी आने लगे हैं। कोरोना की दूसरी लहर का बड़ा कारण डेल्टा वैरिएंट रहा है। म्यूटेट हुए वायरस के कारण देश में अप्रेल और मई में विकट हालात पैदा हुए। फिलहाल कोरोना के मामलों में कमी आई है लेकिन डेल्टा और डेल्टा प्लस वैरिएंट अभी भी परेशानी का कारण बना हुआ है।

बीते दिनों ही सीएम शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशवासियों से अपील की थी कि सावधान रहें। ये सही है कि, मध्य प्रदेश में पॉजिटिव रेट कम हुआ है। लेकिन संक्रमित लगातार मिल रहे हैं। एक्टिव केस भी 392 ही बचे हैं। लेकिन, जीका वायरस, डेल्टा प्लस वेरिएंट ये सब इतने खतरनाक है। एक बार ये फैलना शुरू हुए, तो बाद में बहुत कठिनाई होगी।

वहीं पांच राज्यों महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में केंद्र की ओर से टीम भेजी गई हैं। इन राज्यों में पिछले दिनों के दौरान कोरोना के मामलों में तेजी दर्ज की गई है। इन राज्यों में डेल्टा का वैरिएंट परेशानी का कारण बन रहा है। कोरोना की तीसरी लहर के बारे में विशेषज्ञों का कहना है कि इसे टाला नहीं जा सकता है। बेशक, इससे मुकाबले की बेहतर तैयारी की जा सकती है राहत की बात ये है कि अब कोरोना से मुकाबले के लिए टीके हैं।

तीसरी लहर करीब ही है....

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आइएमए) ***** ने चेताया है कि कोरोना की तीसरी लहर करीब ही है लेकिन आम जन और अफसर आत्मसंतोष सरीखा रवैया बरत रहे हैं। दूसरी लहर से उबरने के बाद ऐसी लापरवाही ठीक नहीं है। पर्यटन, धार्मिक यात्राएं और धार्मिक समारोह जरूरी हैं लेकिन इसके लिए कुछ माह इंतजार किया जा सकता है। इन स्थलों को खोलना और टीकाकरण के बगैर ही लोगों का वहां बड़ी पैमाने पर एकत्रित होना कोरोना की तीसरी लहर के फैलने का कारण बन सकता है। आइएमए का कहना है कि अगले दो-मीन माह बेहद अहम हैं, इस दौरान कम से कम जाखिम जरूरी है।

यहां पर आ गई है तीसरी लहर

ऑस्ट्रेलिया के अधिकांश शहरों में लॉकडाउन है। सिडनी में सोमवार को डेल्टा वैरिएंट के मामलों में 45 फीसदी इजाफा दर्ज हुआ है। इसे गत 120 वर्ष का सबसे बड़ा स्वास्थ्य संकट बताया जा रहा है। संक्रमण का बड़ा कारण धीमा टीकाकरण है। वहीं स्पेन में नया वैरिएंट युवाओं को तेजी से अपनी चपेट में ले रहा है। संक्रमितों में अधिकांश ऐसे युवा हैं। जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगवाई है। मैक्सिको में कोरोना महामारी की तीसरी लहर शुरू हो गई है। एक सप्ताह बाद करीब 29% ज्यादा संक्रमित मिल रहे हैं। इसमें 70% युवा हैं।