'स्पेशल 26' की तर्ज पर सीबीआई अफसर बनकर ठगी करती थी भोपाल की गैंग

|

Published: 09 Aug 2021, 01:32 AM IST

दिल्ली के करोलबाग में वारदात को दिया था अंजाम

भोपाल. दिल्ली पुलिस ने सीबीआई अधिकारी बनकर आपराधिक वारदातों को अंजाम देने वाले पांच ईरानी नागरिकों को गिरफ्तार किया है। ये सभी भोपाल के निवासी हैं। सेंट्रल दिल्ली के पुलिस उपायुक्त जसमीत सिंह ने बताया कि मोहम्मद साबिर हुसैन, मोहम्मद काबली उर्फ इमरान उर्फ इमरान हुसैन, अनवर अली, शौकत अली जाफरी और मुख्तियार हुसैन उर्फ शेख मुख्तार उमर ने करोलबाग में चार वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस ने आरोपियों के पास से तीन सोने की चेन, आठ मोबाइल फोन, दो टॉर्च और पांच सीबीआई के नकली आईकार्ड बरामद किए हैं।
आरोपियों की गिरफ्तारी से करोल बाग में हाल में हुई ठगी की तीन वारदातें सुलझी हैं। आरोपी भोपाल से ट्रेन में बैठकर देश के अलग-अलग राज्यों में जाकर वारदातों को अंजाम देते थे। गिरफ्तारी से पहले यह हत्या के प्रयास समेत ठगी की करीब 25 वारदातों में शामिल रहे हैं। 10 मामलों में अदालत ने इनको भगोड़ा भी घोषित किया हुआ है। पुलिस को मामले में एक अन्य आरोपी की तलाश है।मध्य जिला पुलिस उपायुक्त जसमीत सिंह ने बताया कि 27 जून को करोल बाग की बैंक स्ट्रीट पर बदमाशों ने ज्वेलर के कर्मचारी से 300 ग्राम सोने के जेवरात ठग थे। पूछताछ के दौरान पीडि़त ने बताया कि चार-पांच बदमाशों ने खुद को सीबीआई अधिकारी बताकर तलाशी लेने के लिए उसे रोका और जेवर ठगकर फरार हो गए। करोल बाग पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू की।

झांसी में ट्रेन रुकवाकर किया गिरफ्तार
पुलिस ने सबसे पहले घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी के फुटेज खंगाले तो पुलिस को पता चला कि वारदात में ईरानी गैंग का हाथ है। इसी जांच के बाद पुलिस ने गैंग लीडर मो.अली उर्फ मो. साबिर हुसैन की पहचान कर ली। एक टीम को भोपाल भेजा गया था, लेकिन पुलिस को आरोपी नहीं मिला। पुलिस ने वारदात के समय ट्रेन में भोपाल से दिल्ली यात्रा करने वालों का पता किया। सामने आया कि 26 जून को पांच आरोपी दिल्ली पहुंचे और 30 जून को वापस लौट गए। रेलवे के डाटा से खुलासा हुआ कि 1 अगस्त को आरोपी भोपाल से प्रयागराज जाने वाले हैं। पुलिस ने ट्रेन को झांसी, यूपी में रुकवाकर इन्हें दबोच लिया।