पीएम मोदी के साथ शिवराज की बातचीत, जानिए क्या है इस मुलाकात के मायने

|

Updated: 16 Jun 2021, 04:05 PM IST

cm shivraj meet pm modi: पिछले कुछ दिन से मध्यप्रदेश में चल रही अटकलों के बीच यह मुलाकात काफी है...।

भोपाल। मध्यप्रदेश में पिछले कुछ दिनों से प्रदेश की सियासत में चल रही अटकलों के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (cm shivraj singh chauhan) बुधवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (pm narendra modi) से मुलाकात की। इस मुलाकात में चौहान ने कोविड से जुड़ी सभी जानकारी प्रधानमंत्री को दी। माना जा रहा है कि इसके अलावा प्रदेश की राजनीति में हो रही उठा-पटक, निगम-मंडल और मंत्रिमंडल विस्तार (cabinet expansion) पर भी चर्चा हुई। मुख्यमंत्री चौहान ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा से भी मुलाकात की।

 

यह भी पढ़ेंः मोदी सरकार का एक साल पूरा, शिवराज बोले- मोदी नाम में छुपा है यह राज

 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को दोपहर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। चौहान ने पीएम मोदी को प्रदेश में कोरोना महामारी (coronavirus) से लड़ने के लिए किए जा रहे प्रयासों और वैक्सीन की ताजा स्थिति की जानकारी दी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने मोदी से मुलाकात की जानकारी ट्वीट के जरिए दी।

 

मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट के जरिए बताया कि आज नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से भेंट की और उन्हें मध्यप्रदेश में कोविड 19 की वर्तमान स्थिति से अवगत कराया। मैंने कोरोना नियंत्रण को लेकर प्रदेश सरकार द्वारा अब तक किए गए प्रयासों की जानकारी दी व तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयारियों पर भी चर्चा की।

 

चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश के विकास और जनता के कल्याण के लिए प्रधानमंत्री जी का स्नेहपूर्ण मार्गदर्शन सदैव मिलता रहा है। प्रधानमंत्री जी मैन ऑफ आइडियाज़ हैं, उनके मार्गदर्शन में मध्यप्रदेश में विकास कार्यों को और तेजी के साथ आगे बढ़ाया जा रहा है।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने राज्य के विकास, जनकल्याण, कोविड 19 नियंत्रण, वैक्सीनेशन अभियान सहित अनेक विषयों पर चर्चा की। प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन के प्रकाश में और तेजी से कार्यों को आगे बढ़ा पाऊंगा।

 

सीएम शिवराज ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोविड 19 को नियंत्रित करने के मामले में फैसले सरकार ने नहीं लिए, समस्त क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों ने लिए, इसके बारे में मैंने जानकारी दी। आज मध्यप्रदेश में कोरोना के 160 पॉज़िटिव केस आएं हैं। पॉज़िटिविटी रेट केवल 0.2% है।

 

अगले ट्वीट में चौहान ने कहा कि कोविड 19 की थर्ड वेव को हम लोग कंट्रोल कर पाएं, इसमें हम पूरी ताकत से जुटे हैं। अधिकतम टेस्ट, पॉज़िटिव आए तो आइसोलेट करना, ट्रेसिंग करना, किल कोरोना अभियान चलाते रहना, कोविड केयर सेंटर्स को चालू रखना, और जनता से कोविड एप्रोरप्रियेट बिहेवियर का पालन करवाना जारी रहेगा।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि 21 जून को मध्यप्रदेश में मैं स्वयं, सारे मंत्री, सांसद, विधायक, क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटीज़, अलग-अलग क्षेत्रों की प्रमुख हस्तियाँ वैक्सीनेशन महाअभियान के लिए निकलेंगे। निश्चित समयसीमा में वैक्सीनेशन का कार्य किया जाए, इसके लिए प्रधानमंत्री जी का मार्गदर्शन मिला।

 

 

 

यह भी पढ़ेंः coronavirus cases- सीएम शिवराज ने पीएम मोदी को बताई कोरोना की ताजा स्थिति, मोदी ने कही यह बात

 

 

दिल्ली जाने से पहले किया ट्वीट

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिल्ली जाने से पहले ट्वीट कर कहा है कि भारत की गरीब जनता का कल्याण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता रही है, कल्याणकारी नीतियों और योजनाओं से सामाजिक सुरक्षा का एक ऐसा मजबूत कवच बनाया गया है, जो गरीबों के लिए वित्तीय स्वतंत्रता के नए रास्ते खोलता है।

यह भी पढ़ेंः आवास योजना में एमपी दूसरे स्थान पर, मोदी ने दिया इंदौर को नए साल का तोहफा

केंद्रीय मंत्रिमंडल में सिंधिया को जगह

इधर, पिछले कुछ दिनों से चली आ रही सिंधिया को केंद्रीय मंत्रिमंडल में लिए जाने की अटकलों को जल्द ही विराम मिल सकता है। आज की मुलाकात में मध्यप्रदेश से राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम पर चर्चा हो सकती है। पिछले कई दिनों से सिंधिया का नाम लिया जा रहा है। अटकलें तो यह भी लगाई जा रही है कि उन्हें केंद्र में मानव संसाधन विकास और रेल मंत्रालय भी दिए जा सकते हैं। हाल ही में ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्यप्रदेश के तीन दिनों के दौरे पर थे। इसी बीच वे भोपाल पहुंचकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी मिलने आए थे। इसे भी संभावित मंत्रिमंडल विस्तार से जोड़कर देखा जा रहा है।

 

यह भी पढ़ेंः सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा- 500 वर्षों के सबसे बड़े नेता बन गए पीएम मोदी

 

दिल्ली पहुंचकर किया पौधरोपण

इससे पहले मुख्यमंत्री बुधवार को दिल्ली पहुंचे। जहां उन्होंने रोज की तरह पौधरोपण किया। नई दिल्ली स्थित मध्यांचल भवन में मौलश्री का पौधा रोपा है। वर्षा ऋतु वृक्षारोपण के लिए सबसे उपयुक्त होती है। इस ऋतु में ही वृक्षों की सबसे अधिक वृद्धि और विकास होता है। मैं सभी से अनुरोध करता हूँ कि आप अधिक से अधिक पेड़ लगाएँ और उनकी देखभाल करें।