मध्यप्रदेशः दो युवकों के खाते में आए 274 करोड़ रुपए, इनकम टैक्स और सीबीआई तक पहुंची बात

|

Published: 24 Jan 2020, 12:25 PM IST

डायमंड कंपनियों के नाम पर भी हुआ था लेन-देन...।

भोपाल। मध्यप्रदेश में एक बार फिर आयकर विभाग जांच दो बैंक खातों की जांच कर रही है। इस मामले में दो युवक संदेह के घेरे में हैं। इन दोनों ही युवकों के खाते में 274 करोड़ रुपए पहेली बन गए हैं। बताया जाता है कि कुछ डायमंड कंपनियों के नाम भी इस रकम से जुड़े हो सकते हैं।

मध्यप्रदेश के दो युवकों के नाम पर मुंबई की एक्सिस बैंक के खाते में 274 करोड़ रुपए जमा होने से आयकर विभाग भी सकते में आ गया है। उसने इतनी भारीभरकम रकम जमा होने की जांच शुरू कर दी है।

पीएम मोदी ने महिला के बैंक खाते में भेजे 3.10 लाख रुपए,बाद में खुला राज तो मचा हड़कंप

आयकर विभाग विभाग की जांच अब तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है। हालांकि वे भी इस पहेली को सुलझाने में लगे हैं। सूत्रों के मुताबिक इसे लेकर गोपनीय स्तर पर छानबीन तेज कर दी गई है।

एक्सिस बैंक की मुंबई स्थित बांद्रा रिक्लेमेशन शाखा में रवि गुप्ता के नाम पर है। रवि गुप्ता मध्यप्रदेश के भिंड के रहने वाले हैं। इनके नाम पर खोले गए खाते में 132 करोड़ रुपए जमा हो गए। वहीं मध्यप्रदेश के ही रीवा जिले के कपिल शुक्ला के बैंक खाते में 142 करोड़ रुपए जमा हो गए। पिछले चार से पांच माह में इनके खाते से पैसा निकल भी गया। रकम का लेनदेन अगस्त 2011 से जनवरी 2012 के बीच हुआ था। यह राशि कहां से आई और कहां गई, इसका खुलासा होना बाकी है।

 

यह भी है खास
-मध्यप्रदेश के दोनों ही युवकों के बैंक खाते बताते हैं कि 30 लाख से 2 करोड़ रुपए तक की रकम करीब दो दर्जन कंपनियों से आई और 10 से 15 करोड़ रुपए की रकम एकत्र होते ही करीब आधा दर्जन कंपनियों में एक बार में ही चले गई। इनमें से ज्यादातर कंपनियां डायमंड कंपनियों के नाम पर रजिस्टर्ड थीं, जो बाद में किन्हीं कारणों से बंद हो गईं।

 

दोनों युवकों को नोटिस
आयकर विभाग के मुताबिक दोनों ही युवकों को संदेह के दायरे में रखा गया है। टैक्स वसूली के लिए उन्हें क्रमश: 3.5 करोड़ और 1.06 करोड़ रुपए जमा करने का नोटिस दिया गया है।

 

दोनों युवकों ने बताया फर्जी
मामला वर्ष 2011-12 का है, जब दोनों के खाते में यह पैसा जमा हुआ। तब ये इंदौर स्थित एक मल्टीनेशनल कंपनी के कॉल सेंटर में काम करते थे। एक युवक रवि गुप्ता ने पुलिस और सीबीआई को आवेदन देकर कहा है कि इस मामले में वह बेकसूर हैं और उसके नाम पर फर्जी खाते किसने और क्यों खोले? और इतनी बड़ी राशि कहां से आई और कहां गई? इसकी जांच कराई जाए, इसमें बड़ी साजिश लगती है। दोनों युवकों ने दावा किया है कि मुंबई में एक्सिस बैंक के जिस खाते में यह भारी भरकम राशि जमा हुई है, वे उनके नाम पर कोले गए फर्जी खाते हैं।