मार्च के बाद दिया जाएगा 320 आवंटियों को आवासों का कब्जा

|

Published: 23 Feb 2021, 01:21 PM IST

-यूआईटी सचिव नीलिमा तक्षक ने किया निरीक्षण

भरतपुर. आर्थिक रूप से कमजोर और निर्धन तबके को सरकारी राहत के रूप में मार्च माह या उसके तुरंत बाद ईडब्ल्यूएस आवास का कब्जा मिल जाएगा। यूआईटी ने लॉटरी के माध्यम से शहर के श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर ऐसे तबके के लोगों को फ्लेट उपलब्ध कराए हैं। इन्हें फरवरी-मार्च माह में लोगों को सुपुर्द करना था, लेकिन कुछ काम पूरा होना बाकी है। नगर सुधार न्यास की सचिव नीलिमा तक्षक ने सोमवार को निरीक्षण किया। राज्य सरकार की अर्फोडबिल हाउसिंग पॉलिसी के तहत श्यामाप्रसाद मुखर्जी नगर में निर्माणाधीन ईडब्ल्यूएस क्र्वाटर का संयुक्त निरीक्षण कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के लिए एसपीएम नगर में 1058.25 लाख रुपए की लागत से 320 ईडब्ल्यूएस क्र्वाटरों का निर्माण कराया जा रहा है। सचिव तक्षक ने आवंटियों को मार्च माह में क्वार्टरों को रहने योग्य बनाकर अतिशीघ्र कब्जा देने के निर्देश दिए। साथ ही 12 दुकानों को भी नीलामी करने के लिए कहा। निरीक्षण में अधिशाषी अभियंता दुर्गाप्रसाद शर्मा, कनिष्ठ अभियंता अनूप सिंह मौजूद थे।

प्रत्येक फ्लैट का क्षेत्रफल 294 स्क्वायर फीट

इन फ्लैटों का क्षेत्रफल 294 स्क्वायर फीट रखा गया है। इसके अलावा मेडिकल कॉलेज के पास एसपी-जेड में दो कैटेगिरी के फ्लैट तैयार किए गए हैं। इसमें ईडब्ल्यूएस के लिए 208 फ्लेट बनाए गए हैं। इसके अलावा एलआईजी कैटेगरी वालों के लिए दो रूम के फ्लैट बनाए गए हैं। इनमें भी 96 जनों का लॉटरी के माध्यम से चयन किया गया है। यूआईटी के अनुसार फ्लैट के साथ यहां दुकानों का भी निर्माण कराया गया है ताकि कुछ लोगों की यहां आजीविका चल सके और यहां रहने वाले लोगों को यहीं सामान उपलब्ध हो सके। इसके अलावा ईडब्ल्यूएस के लिए सरकार की ओर से सब्सिडी भी दी गई है। यह सब्सिडी राशि करीब डेढ़ लाख रुपए बताई गई है।

यह तय की गई है राशि

योजना के मुताबिक श्यामाप्रसाद मुखर्जी नगर में फ्लेट की कीमत करीब तीन लाख 53 हजार, एसपी जेड में ईडब्ल्यूएस वालों के लिए 4 लाख 13 हजार तथा एलआईजी कैटेगिरी वालों के लिए राशि 6 लाख 56 हजार रुपए आंकी गई है। इन फ्लेटों के निर्माण का उद्देश्य गरीब एवं अल्प वर्ग के लोगों को आसरा उपलब्ध कराना है।