बिखर रहा उपेंद्र कुशवाहा का कुनबा, RLSP के प्रधान महासचिव ने दिया इस्तीफा, तेजस्वी से की थी मुलाकात

|

Published: 30 Sep 2020, 04:33 PM IST

एक एक कर आरएलएसपी के दिग्गज नेताओं के ऐन मौके पर चले जाने से पार्टी का गढ़ ढहता हुआ नजर आ रहा है (RLSP Leader Madhav Anand Left Party After Meet Tejashwi Yadav) (Bihar News) (Begusarai News) (RLSP) (Upendra Kushwaha) (Madhav Anand)...

पटना,बेगुसराय: बिहार चुनाव 2020 की तारीख नजदीक आती जा रही है। इसी बीच राष्ट्रीय लोक समता पार्टी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा की मुसीबत भी बढ़ती जा रही है। कल तक कुशवाहा के खास कहे जाने वाले आरएलएसपी के प्रधान महासचिव माधव आनंद तेजस्वी यादव के साथ चले गए है। माधव ने आरएलएसपी से इस्तीफा दे दिया है। एक एक कर आरएलएसपी के दिग्गज नेताओं के ऐन मौके पर चले जाने से पार्टी का गढ़ ढहता हुआ नजर आ रहा है।

महागठबंधन से अलग होकर बसपा व जनवादी पार्टी और सोशलिस्ट पार्टी के साथ मिलकर तीसरा मोर्चा बनाने की घोषणा करने के लिए मंगलवार को बुलाई गई बैठक में माधव आनंद कुशवाहा के पास ही बैठे थे। मीटिंग के बाद देर शाम वह राबड़ी निवास से निकलते हुए नजर आए।

बताया जा रहा है कि उन्होंने राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव से मुलाकात की। पांच घंटे तक बातचीत चली ऐसा बताया जा रहा है। अगले ही दिन बुधवार को माधव आनंद ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। इस बाबत ट्वीट कर उन्होंने जानकारी दी है। इन दिनों में उपेंद्र कुशवाहा के लिए तेजस्‍वी का यह दूसरा बड़ा झटका है। तीन दिन पहले आरएलएसपी के प्रदेश अध्‍यक्ष भूदेव चौधरी ने भी आरजेडी का दामन था म लिया था। अटकलें लगाई जा रही हैं कि माधव आनंद जल्द ही आरजेडी की सदस्यता ग्रहण करेंगे। उनके आरजेडी की सीट से विधानसभा चुनाव लड़ने की भी चर्चा है।

गौरतलब है कि महागठबंधन में बात नहीं बनने के बाद मंगलवार को उपेन्द्र कुशवाहा ने बसपा के साथ सभी 243 सीटों पर चुनाव लड़ने का भी ऐलान किया था। उन्होंने चिराग को भी न्योता दिया और कहा कि इस गठबंधन में जो आना चाहें सबका स्वागत है। रालोसपा में मची भगदड़ पर उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा था कि हमने अपनी नाव मंझधार से निकाल ली है, लेकिन जो कमजोर दिल वाले हैं वो उतरकर भाग रहे हैं।