बड़ी साजिश नाकाम, हथियार और विस्फोटक के जखीरे के साथ नक्सली गैंग गिरफ्तार

|

Published: 05 Sep 2020, 09:14 PM IST

छिपकर नक्सली साजिशों के लिए हथियार भेजने वालों को रंगे हाथ पकड़ लिया गया है (Munger Cops Arrested 10 People Including 8 Naxalites With Explosion) (Bihar NewS) (Munger Police) (Begusarai News) (CPI Maoist) (Munger News)...

 

मुंगेर,बेगूसराय: बिहार के मुंगेर जिले से बड़ी खबर सामने आ रही है। यहां पुलिस ने एसटीएफ के सहयोग से प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के बड़ी साजिश को नाकाम करने में सफलता हासिल की है। छिपकर नक्सली साजिशों के लिए हथियार भेजने वालों को रंगे हाथ पकड़ लिया गया है। इनमें से 8 सक्रिय नक्सली है जबकि दो इन्हें मदद देने वाले हैं। इनसे बड़ी मात्रा में हथियार भी बरामद किया गया है। बताया जा रहा है कि इस कार्रवाई से भविष्य में होने वाली बड़ी साजिश पर पानी फिर गया है।

यह भी पढ़ें: बागी के विलेन Sudhir Babu ने कही बड़ी बात, हिंदी फिल्मों के लिए नहीं छोड़ सकते टॉलीवुड

इस कार्रवाई में मुख्य भूमिका निभाने वाली मुंगेर पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर बहादुर कोड़ा अपनी सक्रियता बढ़ा रहा था। वह नए लड़कों को अपने साथ मिलाने और हथियार समेत विस्फोटक सामग्री जमा करने की कार्रवाई में जुटा था। इस बात की सूचना मिलते ही विशेष दल का गठन किया गया।

यह भी पढ़ें: Pakistan नैतिकता का बहाना बना डेटिंग एप पर लगा रहा प्रतिबंध, कट्टरपंथ को मिल रहा बढ़ावा

सूचना थी कि भाकपा माओवादी के लिए कुछ संदिग्ध हथियारों का जखीरा लेकर ऋषिकुंड पहाड़ पर आने वाले है। इसी के साथ इन्हें हार्ड कोर नक्सली और एरिया कमांडर बहादुर कोड़ा तक पहुंचाया जाएगा। तारापुर एसडीपीओ ने छापेमारी दल का नेतृत्व करते हुए विशेष रणनीति बनाई जिस पर काम करते हुए टीम ने इन्हें धर दबोचा।


पुलिस की गिरफ्तार में आए लोगों में पुनीत मंडल, डब्लू चौरसिया, भीम तुरी, कारे खैरा, शंभू तुरी, संजय यादव, बमबम यादव, सुनील तुरी शामिल है। इनके पास से .315 बोर की राइफल. पॉइंट टूटू की एक राइफल, एसएलआर की गोलियां, थ्री नोट थ्री बोर की गोलियां, एसएलआर की दो मैगजीन, एक मास्केट, एक देसी कट्टा, 1 सेमी ऑटोमेटिक पिस्टल, डेटोनेटर 200 मीटर तार, सफेद रंग का संदिग्ध पाउडर, भाकपा माओवादी संगठन का लेटर यह सभी चीजें बरामद की गई हैं।

यह भी पढ़ें: मशहूर फिल्ममेकर Jhony Bakhshi नहीं रहे, राजेश खन्ना के साथ बनाई थी 'खुदाई'

इन सभी में से एक पुनीत मंडल कुख्यात नक्सली है, पिछले 20 सालों से वह पूरी तरह से सक्रिय है। डंगराचक गांव पुनीत मंडल के जिम्मे संगठन के कईं जरूरी काम थे।

ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...