सड़क पर पैंथर के शावक से खेलने लगे ग्रामीण, मादा पैंथर की दहाड़ सुनकर भाग छूटे

|

Published: 10 Jun 2021, 11:55 PM IST

आबादी में पैंथर की लगातार आवाजाही से दहशत

चंदवाजी (जयपुर). क्षेत्र के सिरोही स्थित कुंडाल के जंगलात क्षेत्र में पैंथर की लगातार आवाजाही से ग्रामीणों में दहशत है। इसके बावजूद वनकर्मी ग्रामीणों की समस्या की अनदेखी कर रहे है। ऐसे ही गुरुवार सुबह भ्रमण पर निकले ग्रामीणों को अचानक रास्ते में पैंथर का शावक मिल गया। जिस पर ग्रामीण उसे देखकर काफी उत्साहित हुए और खेलने लगे। इस दौरान मादा पैंथर की दहाड़ सुनकर ग्रामीण मौके से भाग छूटेे।

मॉर्निंग वॉक कर रहे थे तो...
कुंडाल निवासी राजाराम गुर्जर ने बताया कि वह गुरुवार सुबह मॉर्निंग वॉक कर रहे थे। इस दौरान सड़क किनारे पैंथर का शावक उनके पास आ गया। इस दौरान वह साथियों के साथ उसे गोद में लिया और खेलने लगे। इस दौरान ग्रामीणों को झाडिय़ों में से मादा पैंथर के दहाडऩे की आवाज आई तो मौके से भाग छूटे।

एक सप्ताह से आवाजाही...
ग्रामीणों ने बताया कि क्षेत्र में पिछले एक सप्ताह से बघेरा की आवाजाही हो रही है। इस संबंध में कई बार वन विभाग के कर्मचारियों को सूचित किया जा चुका लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हो सकी। यहां रास्ते में रात दिन लोगों की आवाजाही रहती है, जिससे कभी भी हादसा हो सकता है। ग्रामीणों ने पैंथर को पकड़कर अभयारण्य में छोडऩे की मांग की है।

इधर, ग्रामीणों में दहशत...
मैड़. ग्राम पंचायत तेवडी के सेवरा ढाणी व आसपास क्षेत्र में एक सप्ताह से पैंथर की आवाजाही से ग्रामीणों में दहशत है। रामवतार गुर्जर ने बताया कि ढाणी में पहाड़ी पर भोमिया मंदिर के पास से पैंथर कई बार पहाड़ी से उतर कर आबादी में आ जाता है। जिसमें ग्रामीणों को शाम ढलने के बाद घरों से बाहर निकलने में डर लगता है। ग्रामीणों ने वनकर्मियों की गश्त बढ़ाने की मांग की है।

भोजन पानी की तलाश...
भोजन पानी की तलाश में वन्य जीव रास्ते की तरफ आ गया होगा। गर्मी में पानी की तलाश में बघेरा आ सकता है जिसकी तलाश कर पकड़ा जाएगा और अभयारण्य में छोड़ा जाएगा। सिरोही नाका क्षेत्र में दो या दो से अधिक पैंथर होने की संभावना है। ग्रामीणों द्वारा अभी तक कोई सूचना नहीं मिली है।
—लालचंद रैगर, फॉरेस्टर सिरोही नाका, रेंज अचरोल