कोरोना: मरीज स्वस्थ होकर जाने लगे घर, राहत का अहसास

|

Published: 29 May 2020, 09:25 PM IST

-बाड़मेर में 8 अप्रेल को आया था पहला पॉजिटिव
-कोविड केयर सेंटर में कम होने लगी भर्ती मरीजों की संख्या

बाड़मेर. कोरोना संकट के बीच बाड़मेर के लिए राहत की खबर का सिलसिला भी शुरू हो चुका है। मरीजों के स्वस्थ होकर घर लौटने की खबरों से परिजनों को भारी राहत मिल रही है। चिकित्सा कार्मिक भी अब मरीजों के पॉजिटिव से नेगेटिव और डिस्चार्ज होने से काफी उत्साहित हैं।
बाड़मेर में पहला पॉजिटिव केस 8 अप्रेल को आया था। इसके लम्बे समय तक कोई मरीज फिर सामने नहीं आया। इसके बाद 12 मई से सिलसिला शुरू हुआ जो लगातार जारी है और अब तक 93 तक आ पहुंचा है। जिस तरह करीब सवा महीने कोरोना का फैलाव काफी कम रहा। ठीक इसी तरह फैलाव के बाद रिकवरी रेट भी बहुत ही स्लो रही। लेकिन पिछले तीन-चार दिनों से रिकवरी रेट में अचानक सुधार हो रहा है। बाड़मेर जिले में अब तक 32 फीसदी मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। वहीं इनमें से 30 को डिस्चार्ज कर घर भेज दिया गया है।
50 दिनों में डिस्चार्ज होने वाले केवल थे 4
बाड़मेर जिले में कोरोना के रिकवरी रेट धीमी होने के कारण 85 मरीजों पॉजिटिव थे, तब तक डिस्चार्ज होने वालों की संख्या केवल 4 थी। लेकिन अब यह रेट बढ़ रही है। इससे विभाग को भी बड़ी राहत मिल रही है। पिछले दिनों के मुकाबले में देखा जाए तो 50 दिनों में केवल 3 मरीज डिस्चार्ज हुए थे, वहीं पिछले तीन दिनों में यह संख्या बढ़कर 30 तक पहुंच चुकी है।
कोविड केयर सेंटर में कम होने लगे मरीज
जिले में पॉजिटिव मरीजों के लिए बनाए गए कोविड केयर सेंटर में अब डिस्चार्ज होने का सिलसिला शुरू हो चुका है। मरीज स्वस्थ होकर घर लौटने से सेंटर अब खाली जैसे हो गए हैं। बाड़मेर और बालोतरा दोनों स्थानों से सेंटर से मरीजों के स्वस्थ होने से पिछले तीन-दिनों से डिस्चार्ज का सिलसिला चल पड़ा है।
बाड़मेर में कोरोना से मौत नहीं
जिले के लिए एक सुखद पक्ष यह भी है कि अब तक कोरोना से मरीज की मौत का मामला सामने नहीं आया है। हालांकि बाड़मेर के एक वृद्ध की जोधपुर में मौत हुई थी। उसे हार्ट के साथ अन्य बीमारियां भी थी। इसके चलते उसके मौत में केवल कोरोना नहीं होकर अन्य कारणा भी सामने आए थे। हालांकि उसकी रिपोर्ट मौत के बाद पॉजिटिव आई थी।
21 दिन लग गए ठीक होने में
बाड़मेर के बामणी गांव के एक मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव होने में 21 दिन लग गए। वह डायबिटिज से पीडि़त था। अब उसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है।
डॉ. बीएल मंसूरिया, पीएमओ बाड़मेर