budget : परवन को मिलेगी गति... बारां जिले में सड़कों की सुधरेगी सेहत

|

Published: 24 Feb 2021, 11:19 PM IST

राज्य बजट में जिले के लिए कई घोषणाएं, जिले के किसानों को दिन में थ्री फेज विद्युत आपूर्ति

बारां. राज्य विधानसभा में बुधवार को प्रस्तुत राज्य बजट में जिले की महत्वकांक्षी परवन वृह्द सिंचाई परियोजना को गति देने के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री व वित्त मंत्री अशोक गहलोत ने 885 करोड़ रुपए की मंजूर किए हैं। यह राशि इस परियोजना के कार्यों के अलावा किसानों को मुआवजा देने के लिए उपयोग में लाई जा सकेगी। राज्य बजट में इसके अलावा जिले में सड़कों के सुदृढ़ीकरण के लिए सरकार ने अपना हाथ खोला है तो बारां उपखंड के सबसे बड़े कस्बे कोयला को उपतहसील का दर्जा दिए जाने की घोषणा की गई है। जिले में मांडा योजना के तहत संचालित अटरू, सीसवाली व किशनगंज क्षेत्रों में संचालित राजकीय माध्यमिक विद्यालयों को उच्च माध्यमिक के रूप में क्रमोन्नत किया गया।

read also : बड़ी राहत : मौतों पर लगा ब्रेक, कोरोनाकाल में कंट्रोल हुआ स्वाइन फ्लू
परवन परियोजना को मिलेगा संबल
राज्य बजट में वित्तीय वर्ष 2021-22 बारां जिला समेत झालावाड़ व कोटा जिले की सात तहसीलों की जीवनरेखा मानी जा रही परवन वृह्द सिंचाई परियोजना के लिए मुख्यमंत्री गहलोत ने 885 करोड़ रुपए स्वीकृत किए है। परियोजना के अधीक्षण अभियंता केएम जायसवाल ने बताया कि उक्त राशि से प्रभावित किसानों को मुआवजा दिए जाने के साथ इसकी दायीं व बायीं मुख्य नहर के कार्य के साथ डिग्गी निर्माण के कार्य कराए जाएंगे। मौजूदा वित्तीय वर्ष में परियोजना के लिए राज्य सरकार ने 866 करोड़ रुपए मंजूर किए थे। बाद में 127 करोड़ रुपए अतिरिक्त राशि भी दी थी। चालू वित्तीय वर्ष तक सरकार ने इस परियोजना पर 3400 करोड़ रुपए मंजूर किए हैं। अब आगामी वित्तीय वर्ष के लिए 885 करोड़ रुपए और मिल गए। ऐसे में परियोजना के लिए 4285 करोड़ रुपए मिल जाएंगे। परियोजना की कुल लागत 7355 करोड़ रुपए प्रस्तावित है।

read also : राजस्थान बजट : हादसों से जागी सरकार, नदियों पर बनेंगे हाई लेवल ब्रिज
बजट में जिले को यह मिली सौगात
बारां जिले में अब सिंचाई के लिए किसानों को दिन में थ्रीफेज विद्युत आपूर्ति देनी की घोषणा की है।
बारां उपखंड के कोयला कस्बे में उपतहसील कार्यालय खुलेगा। यह बारां उपखंड का सबसे बड़ा कस्बा है। इससे कई गांवों के लोगों को राहत मिलेगी। कोयला अन्ता विधानसभा क्षेत्र का हिस्सा है। जिले के अटरू, किशनगंज व मांगरोल में रीको औद्योगिक क्षेत्र विकसित किए जाने की घोषणा भी बजट में की गई है। बारां नगर परिषद क्षेत्र में 20 किमी सड़कों का निर्माण सार्वजनिक निर्माण विभाग करवाएगा। चारों विधानसभा क्षेत्रों में विधायकों की अनुशंसा पर एक-एक समुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को आदर्श स्वास्थ्य केन्द्र बनाने से उपचार व्यवस्था और भी सुदृढ़ हो सकेगी।
ये घोषणाएं भी हुई : मांगरोल, किशनगंज और अटरू में नए औद्योगिक क्षेत्र : बारां जिले के मांगरोल, किशनगंज, अटरू में औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने का प्रावधान किया गया है। बारां में इंदिरा महिला शक्ति केन्द्र : बारां, जिला मुख्यालय पर इंदिरा महिला शक्ति केन्द्र की स्थापना होगी। इस कार्य के लिए पूरे राज्य के लिए 15 करोड़ का प्रावधान किया गया है। इन केन्द्रों के माध्यम से महिलाओं के स्वास्थ्य संबंधित चिंताओं को दूर किया जाएगा। अंता में ट्रीटमेंट प्लांट बनेगा। बारां में ऑटोमेटिक वाहन फिटनेस जांच केन्द्र स्थापित होगा।
इन सड़कों का होगा कायाकल्प : किशनगंज से रामगढ़ होते हुए मांगरोल तक टू लेन सड़क का नवीकरण होगा। इस मार्ग पर रामगढ़ व मांगरोल के बीच पार्वती नदी पर बड़ा पुल भी बनेगा। अटरू के मेरमाचाह से कुंजेड़ होते हुए चौकी बोरदा तक सड़क का सुदृढ़ीकरण होगा। यह सड़क अटरू को झालावाड़ रोड से जोड़ेगी। मांगरोल के मालबमोरी से बारां तक सड़क का सुदृढ़ीकरण होगा। इससे कोटा जिले की सीमा से बारां जिला मुख्यालय का सफर सुगम होगा। अन्ता से सीसवाली तक सड़क का सुदृढ़ीकरण टू-लेन सड़क के रूप में होगा। इस मार्ग पर सीसवाली की खाड़ी पर हाई-लेवल ब्रिज बनेगा। जिससे दर्जनों गांवों के लोगों को खासी राहत मिलेगी। जिले में पांच मिसिंग सड़कों का निमार्ण भी बजट में प्रस्तावित किया गया है।