Latest News in Hindi

अंतरिक्ष यात्रियों को खाना खिलाने के लिए डीएफआरएल तैयार

By Rajeev Mishra

Sep, 12 2018 07:12:59 (IST)

  • भारतीय मानव अंतरिक्ष मिशन के लिए तैयार करेगा स्पेस फूड
  • खाद्य और पैकेजिंग तकनीक है डीएफआरएल के पास
  • राकेश शर्मा के लिए भी बनाया था मैंगो बार

बेंगलूरु. वर्ष 2022 तक मानव अंतरिक्ष मिशन भेजने की तैयारी कर रहे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) को रक्षा खाद्य अनुसंधान प्रयोगशाला (डीएफआरएल) सहयोग करने के लिए पूरी तरह तैयार है। यह प्रयोगशाला अंतरिक्ष यात्रियों के लिए खाद्य सामग्री तैयार करेगी।
इस संदर्भ में हाल ही में इसरो के साथ डीएफआरएल के वैज्ञानिकों की एक बैठक भी हो चुकी है जिसमें अंतरिक्ष यात्रियों के लिए तैयार किए जाने वाले फूड पैकेट पर चर्चा हुई। डीएफआरएल के एसोसिएट निदेशक डॉ ए. डी. सेमवालने बताया कि हम मानव मिशन के लिए पूरी तरह तैयार हैं। इससे पहले जब देश के पहले अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा अंतरिक्ष में गए थे तब भी डीएफआरएल ने उनके लिए कुछ विशेष खाद्य पैकेट तैयार किए थे। जिसमें मैंगो बार भी था जिसकी उन्होंने काफी प्रशंसा की थी। अब वे नए अंतरिक्ष यात्रियों की रुचि के मुताबिक खाद्य सामग्री करेंगे।
इस संदर्भ में इसरो अधिकारियों के साथ हुई बैठक दौरान एक प्रस्तुति भी दिया गया। डीएफआरएल ने पूर्व में किए गए अपने कार्यों और वर्तमान तथा भविष्य की योजनाओं से भी इसरो अधिकारियों को अवगत कराया। उन विभिन्न प्रकार के रुचिकर व्यंजनों पर भी चर्चा हुई जिसे डीएफआरएल भावी अंतरिक्ष यात्रियों के लिए तैयार कर सकता है। डॉ सेमवाल ने बताया कि अब तो अंतरिक्ष यात्री इडली-सांबर भी लेकर जा सकते हैं। डीएफआरएल ने इसके लिए विशेष प्रकार का इडली-सांबर तैयार किया है। उन्होंने बताया कि अंतरिक्ष में बेहद क्षीण गुरुत्वाकर्षण वाली परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए न सिर्फ खाना तैयार करना बल्कि उसकी पैकेजिंग भी बेहद महत्वपूर्ण होता है। डीएफआरएल ने वह सब तकनीक विकसित की है और अब इसरो की ओर से किए जाने मांग की देरी है। थोड़ा सुधार की जरूरत हो सकती है जो रक्षा खाद्य अनुसंधान प्रयोगशाला कर लेगी। तमाम तकनीक उनके पास है और उन्हें अपने आप पर पूरा भरोसा है।
दरअसल, डीएफआरएल सशस्त्र सैनिकों के लिए विभिन्न प्रकार की खाद्य सामग्री तैयार करती रही है। चाहे 55 डिग्री तक की अत्यंत गर्म परिस्थितियां हों या लेह-लद्दाख की अत्यंत विषम परिस्थितियां। डीएफआरएल हर कठिन परिस्थितियों को ध्यान में रखकर उपयोगी पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य सामग्री तैयार करती है जो सीमा पर लड़ रहे सैनिकों के लिए बेहद उपयोगी साबित होता है। उन्होंने बताया कि अंतरिक्ष यात्रियों को संतुलित और पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पैकेट की आवश्यकता होगी जो बेहद कम गुरुत्वाकर्षण की स्थिति में भी खा सकें। इसके साथ ही यह खाना आसानी से सुरक्षित तरीके से रखा जा सके और खाते समय पैकेट आसानी से खुल जाए इसको भी ध्यान में रखना होता है। खाने के पैकेट जिस पदार्थ से तैयार किए जाते हैं उसे ऐसा होना चाहिए जो बेहद कम गुरुत्वाकर्षण में भी टिकाऊ साबित हो। यह सारी तकनीक डीएफआरएल के पास है और वह मानव मिशन में एक योग्य साझीदार बनने के लिए तैयार है। यहां बुधवार को सेना सेवा कोर (एएससी) में एक संगोष्ठी के दौरान डीएफआरएल व सीएफटीआरआई ने अत्याधुनिक तकनीक से तैयार खाद्य सामग्री का प्रदर्शन किया।