बेशकीमती लकड़ियों के साथ चार वन माफिया गिरफ्तार

|

Published: 16 Jan 2021, 06:22 PM IST

एएसपी ने बताया कि पकड़े गए अभियुक्त अजय सिंह पर 30 आपराधिक मुकदमे दर्ज है। जिसमे अधिक जंगल की लकड़ियों की चोरी
के हैं।


पत्रिका न्यूज नेटवर्क
बलरामपुर. यूपी के बलरामपुर जिले में पुलिस ने वन माफियाओं पर बड़ी कार्रवाई की है। पुलिस ने 217 बेशकीमती लकड़ियों के साथ चार अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए अभियुक्त इन लकडियों को ट्रक व पिकअप पर लादकर दूसरे जिलों में बेचने का कारोबार करते थे।

यह जानकारी देते हुए एएसपी अरविंद मिश्र ने बताया कि एसपी हेमंत कुटियाल के निर्देशन पर माफियाओं के विरुद्ध अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रभारी निरीक्षक सादुल्लाह नगर रामदवन मौर्य मय टीम द्वारा मुखबिर की सूचना पर चपरतलवा चौराहे के पास एक ट्रक व पिकअप पर जंगल की बेशकीमती लाद कर ले जाई जा रही है। सूचना मिलते ही क्षेत्राधिकारी उतरौला राधा रमण सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम मौके पर पहुँच कर ट्रक व पिकअप को कब्जे में ले लिया। पुलिस ने ट्रक UP 42 AT 3725 व पिकअप UP 42 AT 9556 पर लदे चोरी के 204 बोटा सागौन तथा 13 बोटा शीशम की लड़की को जब्त कर उसके साथ के साथ 04 अभियुक्तों अजय सिंह, रणजीत, ओमप्रकाश व तौकीर अली को गिरफ्तार कर लिया।

नहीं दिखा पाए कोई परमिट
पुलिस ने जब ट्रक व पिकअप पर लदी लकड़ियों के कागजात के बारे में पूछताछ की तो पकड़े गए अभियुक्त कोई दस्तावेज नहीं दिखा पाए। इसपर पुलिस पकड़े गए ट्रक और पिकअप को थाने ले आई।

पेड़ काटने के आधुनिक उपकरण भी पुलिस ने किया बरामद
पुलिस ने पकड़े गए अभियुक्तों के पास से पेड़ काटने के आधुनिक उपकरण भी बरामद किये हैं। इससे वह अपना काम आसानी से कम समय में कर लेते थे। पुलिस ने अभियुक्तों के पास से 3 इलेक्ट्रॉनिक आरी भी बरामद किया।

शातिर तरीके से चला रहे थे अपना कारोबार
पकड़े गए अभियुक्तों ने पूछताछ के दौरान बताया कि हम लोग वाहन के साथ पेड़ काटने की मशीन लेकर चलते हैं। किसानों से कुछ
पेड़ खरीद कर इकट्ठा करते हैं तथा जंगल व सार्वजनिक जमीन पर लगे पेड़ों को भी चोरी से काट लेते हैं। इसको खरीदी हुई लकड़ी के
बोटों में छिपाकर वाहन से गोण्डा तथा लखनऊ भेजते हैं।

दो दर्जन से अधिक दर्ज हैं आपराधिक मुकदमे
बेशकीमती लकड़ी का अवैध कारोबार करने वाले अभियुक्त का पुराना आपराधिक इतिहास भी है। एएसपी ने बताया कि पकड़े गए
अभियुक्त अजय सिंह पर 30 आपराधिक मुकदमे दर्ज है। जिसमे अधिक जंगल की लकड़ियों की चोरी के हैं।