कोरोना अपडेट
अमेरिका
केस 363321
मृत्यु10845
बेल्जियम
केस 22194
मृत्यु2035
चीन
केस 83157
मृत्यु3342
दिल्ली
केस 576
मृत्यु9
फ्रांस
केस 77226
मृत्यु10313
जर्मनी
केस 103228
मृत्यु1861
भारत
केस 4714
मृत्यु149
अंतर्राष्ट्रीय
केस 1353361
मृत्यु79235
ईरान
केस 62589
मृत्यु3872
इटली
केस 135586
मृत्यु17129
जम्मू-कश्मीर
केस 116
मृत्यु2
कर्नाटक
केस 175
मृत्यु4
केरल
केस 336
मृत्यु2
मध्य प्रदेश
केस 229
मृत्यु13
महाराष्ट्र
केस 1018
मृत्यु64
राजस्थान
केस 328
मृत्यु3
स्पेन
केस 140510
मृत्यु13798
स्विजटरलैंड
केस 22164
मृत्यु641
तमिलनाडु
केस 690
मृत्यु7
तेलंगाना
केस 427
मृत्यु7
यूके
केस 55246
मृत्यु6159
उत्तर प्रदेश
केस 343
मृत्यु3

दादूपंथी संत की हत्या मामले में मुख्य आरोपी को उम्रकैद, एक किया बरी तो दूसरा भगौड़ा घोषित

|

21 Feb 2020, 11:02 PM IST

- बिचून के भैराणां धाम में वर्ष 2015 में गोली मारकर की गई थी हत्या

जयपुर. सांभरलेक अपर जिला एवं सैशन न्यायाधीश मधुसूदन राय ने बहुचर्चित दादूपंथी संत की हत्या के मामले में अभियुक्त को आजीवन करावास की सजा सुनाई है। ज्ञात रहे कि वर्ष 2015 में संत की गोली मारकर हत्या की गई थी।न्यायाधीश राय ने दादूपंथी भैराणा धाम पर रामलालदास की हत्या के मामले में अभियुक्त जयरामदास निवासी दादू पालकां भैराणा धाम थाना फुलेरा को हत्या, हत्या के प्रयास व आम्र्स एक्ट में आरोपी में दोषी पाया।

जिसमें हत्या के प्रयास में दस साल का कठोर कारावास व 15 हजार रुपए अर्थदण्ड तथा हत्या की धारा में आजीवन कारावास व 25 हजार रुपए अर्थदंड, आम्र्स एक्ट में 3 वर्ष का कारावास व 5 हजार रुपए जुर्माना किया। वहीं दूसरे अभियुक्त सुनील पुत्र रामशरण गुर्जर निवासी ढाकोडा हरियाणा को दोषमुक्त किया है। वहीं तीसरे अभियुक्त देवा उर्फ थावर थाना पनियाला को भगौड़ा घोषित किया है। ज्ञात रहे कि उस समय गद्दी को लेकर रामलालदास व रामानन्ददास के बीच विवाद चल रहा था।


यह था मामला


परिवादी रामलालदास ने एसएमएस अस्पताल के ट्रोमा वार्ड में दिनांक 19 मई 2015 को पर्चा बयान दिए कि वह दादू पालका भैराणा धाम में शाम करीब शाम 8 बजे खाना खा रहा था। उसी समय उनके सम्प्रदाय का जयरामदास आया और उसने कट्टानुमा हथियार तान दिया और चलाया तो नहीं चला। इस पर वह वहां से चला गया और थोड़ी देर वापस आकर सीने पर फायर करने के बाद भाग छूटा।

शोर मचाने पर जगदीश कुमावत, दानाराम गुजर, भगवानदास स्वामी उसे जीप में डालकर फुलेरा अस्पताल लाए। फिर जयपुर रैफर कर दिया गया। जहां उपचार के दौरान संत रामलालदास ने दम तोड़ दिया। इसके बाद फुलेरा थाने में जयरामदास, सुनील व देवा उर्फ थावर के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। जिसमें पुलिस ने चालान पेश किया और साढ़े चार साल इस केस में फैसला आया। गौरतलब है कि हत्या के बाद दादू संप्रदाय के भक्तों में घटना को लेकर काफी रोष जाहिर किया था। यह मामला उस समय काफी चर्चा में था।

Related Stories