LAC पर तनातनी के बीच राष्ट्रपति जिनपिंग की नापाक चाल, सेना से कहा- करें जंग की तैयारी

|

Updated: 15 Oct 2020, 07:43 PM IST

HIGHLIGHTS

  • India China Tension: चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ( Chinese President Xi Jinping ) ने सेना को युद्ध के लिए अलर्ट पर रहने को कहा है।
  • चीन ने LAC के करीब भारी संख्या में सैनिकों की तैनाती के साथ ही बड़ी तादात में हथियारों, मिसाइलों व लड़ाकू विमानों को तैनात कर रखा है।

बीजिंग। भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख ( Eastern Ladakh ) में वास्तविक नियंत्रण रेखा ( LAC ) पर सीमा विवाद को लेकर तनातनी जारी है और बैठकों के कई दौर के बावजूद भी हालात सामान्य होने की दिशा में आगे नहीं बढ़ रहा है।

चीन जहां एक तरफ बैठक में शांति बहाली की बात करता है, वहीं दूसरी तरफ सीमा पर उकसावे की हरकतें कर रहा है। इतना ही नहीं, चीनी सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स में आए दिन भारत के खिलाफ टिप्पणी की जा रही है।

चीनी दूतावास के बाहर Taiwan National Day का पोस्टर लगने पर भड़का चीन, कहा- आग से खेल रही BJP

दुनिया को दिखाने के लिए चीन भारत के साथ वार्ता कर शांति बहाली का संदेश देने की कोशिश कर रही है, लेकिन LAC के करीब भारी संख्या में सैनिकों की तैनाती के साथ ही बड़ी तादात में हथियारों, मिसाइलों व लड़ाकू विमानों को तैनात कर रखा है।

चीन की इस हरकत को देखते हुए यह समझा जा सकता है कि बीजिंग शांति की बजाए जंग की तैयारी कर रहा है। इन सबके बीच अब चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ( Chinese President Xi Jinping ) ने खुल कर जंग का ऐलान कर दिया है। उन्होंने सेना को युद्ध के लिए अलर्ट पर रहने को कहा है।

जिनपिंग ने किया PLA मरीन कॉर्प्स का निरीक्षण

सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने मंगलवार को गुआंगडोंग के दक्षिणी प्रांत में एक सैन्य अड्डे का दौरा किया। इस दौरान पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी से कहा कि वे अपना पूरा दिमाग लगाएं और युद्ध की तैयारी करें। PLA मरीन कॉर्प्स के निरीक्षण के जिनपिंग ने सैनिकों से हाई अलर्ट पर रहने को कहा है।

लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश पर एक बार फिर चीन के बिगड़े बोल, कहा- हम नहीं देते मान्यता

बता दें कि शी जिनपिंग का यह दौरा ऐसे वक्त में हुआ है, जब ताइवान और अमरीका के साथ-साथ भारत के साथ चीन का टकराव चरम पर है। भारत और चीन की सेना लद्दाख सीमा पर बिल्कुल आमने-सामने हैं। चीन की नापाक हरकतों का जवाब देने के लिए भारत ने भी कमर कस लिया है।