भारत से रिश्ते सुधार रहा पाकिस्तान, चार साल बाद कपास और चीनी के आयात को दी मंजूरी

|

Published: 31 Mar 2021, 05:05 PM IST

पाक की कैबिनेट आर्थिक समन्‍वय समिति ने बुधवार को भारत के साथ व्‍यापार को दोबारा से शुरू करने की मंजूरी दे दी।

इस्‍लामाबाद। पाकिस्‍तान की इमरान खान सरकार ने भारत से कपास और चीनी के आयात को दोबारा से मंजूरी दी है। पाक की कैबिनेट आर्थिक समन्‍वय समिति ने बुधवार को भारत के साथ व्‍यापार की अनुमति दी है। पाक 30 जून 2021 से भारत से कपास का आयात करेगा।

पाक के कपड़ा उद्योग को मिलेगी राहत

पाकिस्‍तान ने वर्ष 2016 में भारत से कपास और अन्‍य कृषि उत्‍पादों के आयात पर पूरी तरह से रोक लगा दी थी। इस दौरान पाक में चीनी की बढ़ती कीमत ने संकट बढ़ा दिया है। संकटों से जूझ रहे कपड़ा उद्योग को बचाने को लेकर इमरान खान सरकार ने भारत के साथ व्‍यापार को दोबारा से शुरू करने की मंजूरी दी है।

ये भी पढ़ें: इमरान खान ने पीएम मोदी के खत का दिया जवाब, कहा- दोनों देशों के बीच शांति के लिए जरूरी है ये बात

पहला बड़ा प्रयास माना जा रहा

तनावपूर्ण रिश्‍तों के बीच यह पाक का भारत के साथ संबंधों को सुधारने की दिशा में पहला बड़ा प्रयास माना जा रहा है। इससे पहले अगस्‍त 2019 में जम्‍मू-कश्‍मीर का विशेष दर्जा खत्‍म करने के बाद पाक ने भारत के संग सभी रिश्‍ते तोड़ लिए थे।

पाकिस्‍तान सरकार चीनी के साथ कपास का आयात ऐसे समय पर करने जा रही है, जब देश की आर्थिक स्थिति बेहद खराब दौर से गुजर रही है। पाकिस्‍तान सरकार का यह फैसला दोनों देशों के बीच सामान्‍य होते रिश्‍तों की शुरुआत माना जा रहा है।

इमरान खान ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

इस बीच पाक पीएम इमरान खान ने अपने भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कहा कि जम्मू कश्मीर के साथ दोनों देशों के बीच लंबित सभी मुद्दों का समाधान करने के लिए प्रयास किए जा रहे है। इसके लिए अनुकूल माहौल बनाना जरूरी है। पीएम मोदी द्वारा पाक दिवस के मौके पर भेजी बधाई के जवाब में खान ने ये जवाब दिया है।

क्या कहा था पीएम मोदी ने

पीएम मोदी ने अपने पत्र में कहा कि पाक के साथ भारत सौहार्द्रपूर्ण संबंधों की आकांक्षा करता है, मगर विश्वास का वातावरण, आतंक और बैर रहित माहौल इसके लिए ‘अनिवार्य’ है। पीएम मोदी के पत्र के जवाब में खान ने उनका शुक्रिया अदा किया था। इसके साथ उन्होंने कहा कि पाक के लोग भारत सहित सभी पड़ोसी देशों के साथ शांतिपूर्ण सहयोगी की आकांक्षा करते हैं।