UN में आतंकवाद पर नेपाल ने दिया भारत का साथ, पाकिस्तान की जमकर आलोचना की

|

Updated: 27 Sep 2020, 01:34 PM IST

Highlights

  • संयुक्त राष्ट्र (United Nations) की बैठक में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली (KP Sharma Oli) ने अपनी बात रखी।
  • ओली ने कहा कि आतंकवाद के मुद्दे पर सभी देश जल्द से जल्द व्यापक सहमति बनाएं।

काठमांडू। भारत और नेपाल के बीच सीमा को लेकर भले तनातनी चल रही हो मगर आतंकवाद को लेकर दोनों साथ है। संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के मंच पर नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली (KP Sharma Oli) ने आतंकवाद पर पाकिस्तान को आड़े हाथ लिया। इस दौरान उन्होंने भारत के आतंकवाद को रोकने के प्रयासों की जमकर तारीफ की,वहीं पाकिस्तान की आतंकवाद पर रणनीति की आलोचना की। इससे पहले भारत ने अपनी बारी में पाकिस्तान को जमकर लताड़ लगाई थी। इसके ठीक बाद नेपाल की यूएन में बालने की बारी थी।

गौरतलब है कि कोरोना महामारी के कारण संयुक्त राष्ट्र की बैठक में सभी देशों के वक्ता वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपनी बातों को सामने रख रहे हैं। ओली ने भी अपना पक्ष रखा। ओली ने अपने वीडियो संदेश में कहा कि नेपाल, देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को कायम रखने के लिए पड़ोसी देशों और दुनिया के दूसरे सभी देशों के साथ बेहतर रिश्ते कायम करने के लिए प्रतिबद्ध है।

सहमति अपनाने का आह्वान किया

ओली ने शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र की एक उच्च-स्तरीय बैठक में भारत का साथ दिया ओर पाकिस्तान को सभी देशों के सामने जमकर लताड़ लगाई। इसके साथ ही नेपाल के पीएम ने अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद पर अपनी सहमति अपनाने का आह्वान किया।

पीएम ओली ने कहा कि नेपाल आतंक के सभी रूपों की कड़ी आलोचन करता है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद के मुद्दे पर सभी देश जल्द से जल्द व्यापक सहमति बनाएं। उन्होंने कहा कि आतंकवाद को किसी रूप में समर्थन देने वाले देशों का वे पुरजोर विरोध करते हैं। आतंकी गतिविधियों के कारण हर साल सैकड़ों निर्दोष लोगों की जान जा रही है। इस घृणित और अमानवीय घटनाओं की नेपाल कड़ी निंदा करता है। नेपाल के इस बयान से चीन और पाकिस्तान में खलबली मच गई है। चीन लगतार भारत के खिलाफ नेपाल को भड़काता रहा है। वहीं पाकिस्तान भी नेपाल से नजदीकियां बढ़ाना चाहता है।