पीओके में प्रचार करने पहुंचे Imran Khan के मंत्री पर बरसे अंडे और पत्थर, घटना को सियासी साजिश बताया

|

Published: 16 Jul 2021, 08:10 PM IST

पाकिस्तान के कश्मीर मामलों के संघीय मंत्री अली अमीन (Ali Amin) चुनाव प्रचार के लिए आयोजित एक जनसभा में चिनारी के लिए जा रहे थे।

नई दिल्ली। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में वोट मांगने पहुंचे इमरान खान (Imran Khan) के मंत्री का लोगों ने पत्थर और अंडों से स्वागत किया। इस हरकत पर मंत्री साहब नाराज हो गए और फायरिंग की घटना सामने आई। दरअसल, पाकिस्तान के कश्मीर मामलों के संघीय मंत्री अली अमीन (Ali Amin) चुनाव प्रचार के लिए आयोजित एक जनसभा में चिनारी के लिए जा रहे थे। मगर रास्ते में ही जनता ने उन पर पत्थर बरसाने शुरू कर दिए। अमीन इसे आवाम का आक्रोश नहीं बल्कि सियासी साजिश बता रहे हैं।

ये भी पढ़ें: द.अफ्रीका: पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा की सजा पर भड़की हिंसा, भारतीय मूल के लोगों को बनाया निशाना

PML-N पर लगाया आरोप

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जैसे ही अली अमीन (Ali Amin) का काफिला झेलम घाटी की सड़क पर पहुंचा, कुछ लोगों ने उन पर अंडे और पत्थर बरसाने शुरू कर दिए। इसके बाद लोगों को हटाने के लिए मंत्री की सुरक्षा में तैनात गार्ड को हवाई फायरिंग करनी पड़ी। खान के अनुसार उनके कुछ विरोधियों ने पाकिस्तान मुस्लिम लीग-एन (PML-N) के साथ मिलकर इस तरह की वारदात को अंजाम दिया है।

चुनाव टालने की मांग

बीते महीने 10 जून को पाक के कब्जे वाले कश्मीर (Pok) के शीर्ष चुनाव अधिकारी ने 25 जुलाई को विधानसभा के लिए आम चुनाव की घोषणा करी थी। इसके कोरोना वायरस महामारी के मामले दोबारा बढ़ने के खतरे को लेकर चुनाव को दो माह तक के लिए स्थगित करने की अपील की गई। इस दौरान जनता में अपने पक्ष में माहौल बनाने को लेकर इमरान सरकार के मंत्री अली अमीन पार्टी लीडर मुराद सईद के साथ जनसभा को संबोधित करने के लिए चिनारी जा रहे थे।

ये भी पढ़ें: चीन का पाकिस्तान से उठा भरोसा : CPEC की बैठक रद्द, भेजी जांच टीम, चीन के तेवर देख पाक के बदले सुर

इमरान खान से नाराज है आवाम

इमरान के मंत्री इस मामले को भले ही सियासी साजिश बताने में लगे हैं, लेकिन सच ये है कि पाकिस्तान में इमरान खान सरकार के प्रति लोगों का गुस्सा लगातार बढ़ता जा रहा है। ‘नया पाकिस्तान’ का वादा करने वाले इमरान के राज में पाकिस्तान को हर तरफ से बेइज्जत होना पड़ा है। देश महंगाई चरम पर है। स्थिति ये है कि लोगों के लिए पेट भरना भी कठिन हो चुका है।