अफगानिस्तान पर दबाव बनाने की कोशिश में इमरान खान? पाकिस्तान में अफगान राजदूत की बेटी को अगवा कर किया गया प्रताड़ित

|

Updated: 17 Jul 2021, 10:30 PM IST

अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने शनिवार को एक बयान में कहा कि पाकिस्तान में अफगानिस्तान के राजदूत नजीबुल्लाह अलीखिल की बेटी का इस्लामाबाद में अपहरण कर उसे घर ले जाते समय प्रताड़ित किया गया।

नई दिल्ली। अफगानिस्तान से अमरीकी सैनिकों की वापसी के साथ ही बर्बरता की कहानी एक बार फिर से शुरू हो गई है। वहीं, पाकिस्तान अपने नापाक मनसूबों को अंजाम देने के लिए अफगानिस्तान पर दबाव बनाने की कोशिश में जुट गया है। इसका प्रमाण अब साफ-साफ देखा जा सकता है। दरअसल, पाकिस्तान ने अफगान राजदूत की बेटी का अपहरण कर उसको प्रताड़ित किया और फिर छोड़ दिया।

अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने शनिवार को एक बयान में कहा कि पाकिस्तान में अफगानिस्तान के राजदूत नजीबुल्लाह अलीखिल की बेटी का इस्लामाबाद में अपहरण कर उसे घर ले जाते समय प्रताड़ित किया गया।

यह भी पढ़ें :- दानिश सिद्दीकी का शव तालिबान ने रेडक्रॉस को सौंपा, जाएगा लाया जाएगा भारत

बयान में कहा गया है, "इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ अफगानिस्तान के विदेश मामलों के मंत्रालय (एमओएफए) ने गहरे अफसोस के साथ कहा कि 16 जुलाई, 2021 को इस्लामाबाद में अफगान राजदूत सुश्री सिलसिला अलीखिल की बेटी का अपहरण कर उसे कई घंटों तक कैद रखा गया और छोड़े जाने पर उसके घर के रास्ते पर उसे अज्ञात द्वारा गंभीर रूप से प्रताड़ित किया गया।"

दोषियों पर कार्रवाई की मांग

अपहरण करने वालों की कैद से रिहा होने के बाद अलीखिल का एक अस्पताल में इलाज चल रहा है। बयान में कहा गया है कि एमओएफए जघन्य कृत्य की कड़ी निंदा करता है और राजनयिकों, उनके परिवारों और पाकिस्तान में अफगान राजनीतिक और कांसुलर मिशन के स्टाफ सदस्यों की सुरक्षा और सुरक्षा पर अपनी गहरी चिंता व्यक्त करता है।

यह भी पढ़ें :- इमरान खान को दोस्त चीन की धमकी, चीनी स्पेशल फोर्स पाकिस्तान में करेगी मिसाइल हमला

"विदेश मंत्रालय पाकिस्तान सरकार से अफगान दूतावास और वाणिज्य दूतावासों की पूर्ण सुरक्षा सुनिश्चित करने के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय संधियों और सम्मेलनों के अनुसार देश के राजनयिकों और उनके परिवारों की उन्मुक्ति सुनिश्चित करने के लिए तत्काल आवश्यक कार्रवाई करने का आह्वान करता है।"

बयान में कहा गया है, "जबकि अफगान विदेश मंत्रालय पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के साथ मामले का पालन कर रहा है, हम पाकिस्तानी सरकार से जल्द से जल्द अपराधियों की पहचान करने और उन पर मुकदमा चलाने का आग्रह करते हैं।"