राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों को बड़ी सुविधा, स्वास्थ्य मंत्री ने की घोषणा

|

Published: 24 Aug 2020, 05:58 PM IST

हल्के लक्षण वाले मरीजों से सैंपलिंग के समय स्व-घोषणा पत्र लेकर घर में एकांतवास रहने की दी जायेगी सुविधा
कोविड ट्रेकिंग टीम द्वारा किया जायेगा घरों में एकांतवास मरीजों का फॉलो-अप, कम से कम 3 दौरे करने होंगे

चंडीगढ़। पंजाब सरकार ने घरेलू एकांतवास अधीन रह रहे बिना लक्षण और हल्के लक्षण वाले मरीजों और 60 साल से अधिक उम्र और सह-रोग वाले मरीजों और गर्भवती महिलाओं के मेडिकल फिटनेस संबंधी नये दिशा-निर्देश जारी किये हैं। ऐसे सभी मरीज नमूने लेते समय घर में ही एकांतवास रहने की सुविधा उपलब्ध होने संबंधी स्व-घोषणा पत्र दे सकते हैं। यदि वह बाद में कोविड-19 टेस्ट के लिए पॉजिटिव पाए जाते हैं तो वह घर में एकांतवास रहने के योग्य होंगे। यह दिशा-निर्देश घरेलू एकांतवास बिना लक्षण और हल्के लक्षण वाले कोविड-19 टेस्ट में पॉजिटिव होने वाले मरीजों पर भी लागू होते हैं। प्राइवेट संस्थाओं को भी उक्त प्रोटोकॉलों का पालन करने के लिए निर्देश दिए गए हैं।
अस्पताल लाने की जरूरत नहीं

स्वास्थ्य मंत्री सरदार बलबीर सिंह सिद्धू ने बताया कि इस संबंध में समूह डिप्टी कमिश्नर्स, सिविल सर्जन्स को हिदायतें जारी की जा चुकी हैं। उन्होंने कहा कि नमूना लेते समय उपलब्ध डॉक्टर ऐसे सभी व्यक्तियों को घरों में एकांतवास संबंधी उनकी मेडिकल फिटनेस की जांच करेंगे। अगर ऐसे मरीज कोविड-19 के लिए पॉजिटिव पाए जाते हैं तो प्रोटोकॉल के अनुसार वह घरों में ही एकांतवास रहना जारी रखेंगे। उन्होंने स्पष्ट किया कि यदि उन मरीजों में कोई लक्षण नहीं या हल्के लक्षण ही रहते हैं तो उनको अस्पताल लाने की कोई जरूरत नहीं।

गलत जानकारी दी तो एकांतवास में भेज देंगे
घरेलू एकांतवास के लिए मरीज एक किट खरीदेगा जिसमें थर्मामीटर, पल्स ऑसीमीटर, विटामिन सी और जिंक की गोलियाँ होनी चाहिए। किसी भी लक्षण के लिए बाकायदा खुद की निगरानी करेंगे और लक्षण दिखाई देने या स्वास्थ्य बिगड़ जाने पर तुरंत स्वास्थ्य विभाग को रिपोर्ट करेंगे। घरों में एकांतवास किये मरीजों का फॉलो-अप जिला प्रशासन कोविड रोगी ट्रैकिंग टीम द्वारा किया जायेगा। यह टीमें घरों में एकांतवास होने वाले मरीजों का फोन के जरिये फॉलो-अप और कम से कम 3 दौरे करना यकीनी बनाएंगी। उन्होंने कहा, ‘‘यदि दौरे के दौरान प्रोटोकॉल के अनुसार मरीज द्वारा घर में एकांतवास रहने संबंधी स्व-घोषणा पत्र में दी गई जानकारी गलत पाई जाती है, तो ऐसे मरीजों को एकांतवास केंद्र में तब्दील कर दिया जायेगा।’’

गर्भवती महिलाओं को क्या करना है

हल्के लक्षण वाली कोविड-19 पॉजिटिव गर्भवती महिलाएं जो कम-जोखिम वाली गर्भ अवस्था में हैं और जिनकी अगले तीन हफ्तों में प्रसूति होने की संभावना नहीं है और यदि महिला को किसी गायनीकोलोजिस्ट द्वारा सर्टीफाई किया जाता है तो उसे घर में एकांतवास किया जा सकता है। प्राइवेट संस्थानों को भी इसी प्रोटोकॉल का पालन करने की हिदायत की गई है। अगर किसी घर में एकांतवास किये मरीजों को किसी डॉक्टरी सहायता की जरूरत होती है तो उनको 104 या जिला हेल्पलाइन नंबर पर फोन करना चाहिए।