अंत की और अतीक अहमद का गैंग!, ढह रहा बाहुबली का आपराधिक साम्राज्य

|

Published: 13 Sep 2020, 04:07 PM IST

अब तक अतीक से जुड़ी करीब 100 करोड़ की सम्पत्तियों पर हो चुकी है कार्रवाई, परिवार समेत करीबियों के असलहे भी हुए निरस्त। सिर्फ बेटा उमर पुलिस की पकड़ से बाहर।

 

 

अंत की और अतीक अहमद का गैंग!, ढह रहा बाहुबली का आपराधिक साम्राज्य

प्रयागराज. बाहुबली अतीक अहमद जेल में बंद हैं, एक लाख रुपये का ईनामी छोटा भाई पूर्व विधायक खालिद अजीम अशरफ भी पकड़ा जा चुका है और उनके गैंग के सदस्यों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई व धर-पकड़ जारी है। यूपी पुलिस की ताबड़तोड़ कार्रवाईयां इस बात का संकेत हैं कि अतीक गैंग के खात्मे की तैयारी है। इसके लिये पुलिस सरगना अतीक और उसके गैंग की सम्पत्तियों पर कार्रवाई करने के साथ उनके असलहों के लाइसेंस कैंसिल कर उन्हें जब्त कर रही है और जेल भेजा जा रहा है। अतीक परिवार से अब केवल उनका बेटा उमर ही पुलिस की पकड़ से बाहर है, उस पर भी दो लाख रुपये का इनाम है। अब तक अतीक से जुड़ी करीब 100 करोड़ रुपये की सम्पत्तियों पर कार्रवाई की जा चुकी है।

 

प्रयागराज के चकिया निवासी पूर्व सांसद बाहुबली अतीक अहमद आईएस-227 गैंग के सरगना हैं, जिनपर 85 से अधिक मुकदमे दर्ज हैं। उनके खिलाफ प्रयागराज में 10 मुकदमे लंबित हैं। कई ऐसे भी मामले हैं जिनमें पुलिस अभी तक आरोप पत्र दाखिल नहीं कर पायी है। 15 अगस्त 220 के बाद से पुलिस प्रशासन ने बाहुबली अतीक अहमद पर जिस तरह से शिकंजा कसा है, उससे करीबियों और गैंग के सदस्यों में हड़कम्प मच गया है। पुलिस प्रशासन ने गैंगस्टर एक्ट लगाकर संपत्तियां कुर्क करनी शुरू कीं तो 27 अगस्त तक 65 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क कर ली गई। सिविल लाइंस में अतीक और उनके साढ़ू इमरान की करोड़ों की इमारत जमींदोज कर दी गई।

 

इसके बाद रिश्तेदार हमजा की करोड़ों की बिल्डिंग खाली कराकर ढहा दी गयी। झूंसी के कटका में अतीक का करोड़ों का कोल्ड स्टोरेज भी ढहाए जाने की तैयारी है। उसे खाली कराया जा रहा है। अभी अतीक की और संपत्तियों पर कुर्की की जानी है। अतीक और उनसे जुड़े 10 मकान कुर्क किये जा चुके हैं। 16 संपत्तियों की कुर्की के आदेश में से अभी छह पर कार्रवाई होनी है। अतीक की 20 अवैध सम्पत्तियां चिन्हित की गई हैं। प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने तीन सम्पत्तियों पर बुलडोजर चलवाकर जमींदोज कर दिया। इसके अलावा अतीक और उनके परिजनों के नाम से बने नौ असलहों को निरस्त कराने के साथ ही 30 असलहे जमा कराए गए हैं।