अलाव जलाए तालियां बजाई दवा छिडक़ाव से टिड्डियां हुईं धराशायी

|

Published: 12 May 2020, 11:51 AM IST

लाखों की संख्या में उड़ती टिड्डियों का नजारा देखने के लिए लोग छतों के ऊपर चढ़ गए


अजमेर. पुष्कर कृषि विभाग की ओर से टिड्डी दल के पुष्कर क्षेत्र छोडऩे के दावों की सोमवार को उस वक्त पोल खुल गई । जब लाखों की संख्या में आसमान में बादलों की तरह मंडराती टिड्डियों ने पुष्कर एवं आसपास के खेतों पर हमला बोल दिया । खेतों में खड़े पेड़ों की टहनियां टिड्डियों के एक साथ बैठने के कारण टूट गई । शाम करीब 5.00 बजे अचानक पुष्कर के आसमान में टिड्डियों का जाल बिछ गया । लाखों की संख्या में उड़ती टिड्डियों का नजारा देखने के लिए लोग छतों के ऊपर चढ़ गए । वहीं तिलोरा ,गनाहेड़ा ,वासनी, चावंडिया नाला क्षेत्र के ग्रामीण बेचैन होकर खेतों की ओर फसल बचाने के लिए दौड़े। लोगों ने खेतों में अलाव जलाए ।चावंडिया गांव में टिड्डियों को भगााने के दौरान कई बालक टिड्डियों के झुंड में घिर गए । मौके पर मौजूद लोगों ने उन्हें घेरे से बाहर निकाला।

गनाहेड़ा गांव के पूर्व सरपंच मांगीलाल रावत ने बताया कि लाखों की तादाद में टिड्डियों के बैठने से पेड़ों की टहनियां टूट गईं। लोगों ने फसलों की रक्षा करने के लिए खेतों में अलाव जलाए । खेतों में फसलों की रक्षा के लिए नायकों की की ढाणी व आसपास के क्षेत्र में दवा का छिडक़ाव किया। भगवानपुरा पंचायत के वार्ड पंच भंवर सिंह ने बताया कि लाखों रुपए की जामुन ,केरी , मिर्च, तूुरई की की फसलें टिडिडय़ां चटकर गईँ।